Posts

Showing posts from September, 2020

भारत में कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या पहुंची 83 प्रतिशत से पार

29 सिंतबर यानि एक दिन पूर्व की रिपोर्ट के मुताबिक देश में कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। पिछले 24 घंटों के दौरान पुष्टि के नए मामलों की तुलना में रिकवरी मामलों की संख्या अधिक दर्ज किया गया है। इसके साथ ही भारत का रिकवरी रेट 83 प्रतिशत के पार चला गया। देश में पिछले 24 घंटों के दौरान 84,877 रिकवरी दर्ज किया गया जबकि  70,589 नए मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही रिकवरी के कुल मामले 51,01,397 हो गए हैं। रिकवरी के नए मामलों में से 73% मामले दस राज्यों महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, ओडिशा, केरल, पश्चिम बंगाल और मध्य प्रदेश से सामने आए हैं।  अधिक संख्या में मरीजों के ठीक होने के कारण सक्रिय और रिकवरी के मामलों के बीच अंतर अधिक बढ़ रहा है। सक्रिय मामलों (9,47,576 ) की तुलना में रिकवरी के मामले 41.5 लाख (41,53,831) अधिक है। सक्रिय मामलों की तुलना में रिकवरी के मामले 5.38  गुणा अधिक है। इससे यह सुनिश्चित होता है कि रिकवरी दर लगातार बढ़ रही है। देश में कुल सक्रिय मामलों का इस समय केवल 15.42 प्रतिशत मामला सक्रिय है और इसमे

नहीं रहे वरिष्ठ साहित्यकार उदय कान्त पाठक, 82 वर्ष की उम्र में हुआ निधन।

Image
वरिष्ठ साहित्यकार उदय कान्त पाठक "मुन्ना बाबू" का बीती रात दरभंगा के एक निजी अस्पताल में निधन हो  गया । वह 82 वर्ष के थे। वह कुछ दिनों से अस्वस्थ चल रहे थे। वह बिहार के मधुबनी जिले के भेजा ग्राम के रहने वाले थे। वह लोगों के बीच मुन्ना बाबू के नाम से प्रसिद्ध थे। उदयकांत पाठक अपने पीछे पत्नी के अलावा तीन पुत्रों अमरेन्द्र पाठक, डॉ. समरेन्द्र पाठक, अरविन्द पाठक  एवं  पुत्री नीलम झा का भरा पूरा परिवार छोड़ गए है। पेशे से शिक्षक रहे पाठक मीडिया ग्रुप  "लोक संगठन " एवं "यूनाइटेड बुलेटिन" ग्रुप के निदेशक एवं प्रधान संपादक थे। वह अरसे तक बिहार से प्रकाशित प्रमुख दैनिक इंडियन नेशन , आर्यावर्त एवं मिथिला मिहिर से भी जुड़े थे। उन्हें साहित्यिक रचना के लिए अनेक पुरस्कारों से नवाजा गया था।   पाठक ने अपने ग्राम से लेकर दिल्ली तक कई शिक्षण संस्थानों की स्थापना में अहम् भूमिका अदा की थी। वरिष्ठ साहित्यकार पाठक के निधन पर बिहार कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. मदन मोहन झा , विधायक ललित यादव , विधायक कमर आलम , बिहार की पूर्व मंत्री डॉ. रेणु कुशवाहा , पूर्व सांसदों  पप्पू यादव , रंजीत

फैशन की दुनिया की मशहूर हस्ती सुनील सेठी देंगे अब खादी के कपड़ों के डिजाइन के लिये सलाह

Image
स्वदेशी अपनाने की बात हो तब अपने आप ही खादी का ख्याल हमारे दिमाग में आ ही जाता है। यह हमारी आन-बान और शान है। लेकिन आधुनिक व बदलते फैशन के इस दौर में खादी कहीं पीछे न छूट जाए इसके लिये केवीआईसी यानि खादी और ग्रामोद्योग ने हमेशा कुछ नया करने का प्रयास किया है। इसी परिपेक्ष्य में खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) ने भारतीय फैशन उद्योग की जानी मानी हस्ती सुनील सेठी को अपना सलाहकार नियुक्त किया है। सेठी भारत और विदेशों में खादी के प्रचार के साथ-साथ तैयार कपड़ों के क्षेत्र में नवीनतम डिजाइनों के बारे में आयोग को सलाह देंगे। केवीआईसी के अनुसार सेठी की नियुक्ति एक वर्ष की अवधि के लिए की गई है। इससे पहले, प्रसिद्ध फैशन डिजाइनर रितु बेरी केवीआईसी के सलाहकार के रूप में कार्य कर चुकी हैं। हाल ही में उनका कार्यकाल समाप्त हुआ है।  गौरतलब है कि  सुनील सेठी के पास विश्व स्तर पर व्यापार करने का चार दशकों का लंबा अनुभव है, जहां उन्होंने कई नवीन और सफल रहे पहलों के माध्यम से भारतीय हस्तशिल्प, डिजाइन और वस्त्र उद्योग के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। चार सौ डिजाइनरों के प्रतिनिधित्व वाले फैशन

बिहार में 28 अक्टूबर से तीन चरणों में मतदान,10 नबम्बर को मतगणना,आचार संहिता लागू

Image
बिहार विधान सभा चुनाव के लिए आज तारीखों की घोषणा के साथ ही राज्य में चुनाव आचार संहिता लागू  कर दिया गया। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने यहां प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस आशय की घोषणा की। कोरोना संकट के बीच देश में यह सबसे बड़ा चुनाव हो रहा है। मुख्य चुनाव आयुक्त  ने कहा कि बिहार में पहले चरण में 28 अक्टूबर, दूसरे चरण 3 नवंबर एवं तीसरे चरण में 7 नवंबर को मतदान होगा। 10 नवंबर को मतगणना होगी। उन्होंने कहा कि पहले चरण में 16 जिलों के 71 विधान सभा क्षेत्र में, दूसरे चरण में 17 जिलों के 94 विधान सभा क्षेत्र में तथा तीसरे चरण में 15 जिलों के 78 विधान सभा क्षेत्र में मतदान होगा। मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि कोरोना से संक्रमित मरीज भीअंतिम समय में मतदान कर सकेंगे। इसके साथ ही चुनाव प्रचार में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा।  नामांकन के लिए 2 से ज्यादा गाड़ियों का इस्तेमाल नहीं किया जायेगा। मतदान का समय एक घंटा बढ़ाया गया है।अब मतदान सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक होगा। इस चुनाव के लिए 6 लाख फेस शील्ड,7 लाख सैनिटाइजर एवं 46 लाख मास्क का इंतजाम किया गया है। इस बार एक मतदान केंद्र पर एक

बिहार चुनाव की तारीखों की जल्द हो सकती है घोषणा, मगर राजनीतिक दलों में अब तक नहीं सुलझ रहा सीट शेयरिंग का मसला

Image
चुनाव आयोग ने बिहार विधान सभा चुनाव के लिए अधिसूचना जारी किये जाने की प्रक्रिया तेज कर दी है। जल्दी ही चुनाव के लिए तारीखों का ऐलान कर दिया जायेगा, मगर अब तक यहां दोनों गठबंधनों जदयू-भाजपा-लोजपा-हम एवं राजद-कांग्रेस-लोसपा-वीआईपी-वाम दलों के बीच सीट शेयरिंग का मसला अभी तक हल नहीं होने से राजनीतिक सरगर्मी मंद पड़ी है। इन राजनीतिक दलों के कार्यालयों में पार्टी के कार्यकर्ता उम्मीदवारी के लिए अपना वायोड़ाटा जमा कर बैरंग लौट जाते हैं।इस वजह से दफ्तरों में भीड़-भाड़ नहीं के बराबर है।हालांकि सभी दलों ने अपने दफ्तरों को चका-चक बना रखा है। दोनों ही गठबंधनों ने कौन कितने सीटों तथा कहां से लडेगा ? अभी तक यह तय नहीं कर सका है। राज्य में सत्तारूढ़ जदयू बड़े भाई की भूमिका में बना रहना चाहता है,लेकिन साझीदार भाजपा इस बार यह मानने को तैयार नहीं है।ऊपर से लोजपा ने भी ज्यादे सीट की मांग रख पेंच फंसा दिया है। महागठबंधन का सबसे बड़ा दल राजद इस बार सहयोगी दलों कांग्रेस,वाम पार्टियां ,लोसपा एवं वीआईपी को वेवजह सीट नहीं देना चाहता है,क्योंकि पिछले चुनावों से राजद को यह अनुभव हो गया है, कि ये पार्टियां वोट ट्रांस

नई तकनीक से फूलों की खेती ने बनाया आत्मनिर्भर

Image
किसानी करते हुए भी आप एक अच्छा जीवन व्यतीत कर सकते हैं, यह एक प्रगतिशील सोच रखने वाले धनंजय महतो कहते हैं। झारखंड के बोडाम प्रखंड के मुचिडीह गांव के किसान धनंजय महतो अन्य किसानों की तरह पारंपरिक खेती से जुड़े थे, मगर हमेशा कृषि से अच्छा उपार्जन करना चाहते थे। इसी बीच आत्मा कृषि विभाग द्वारा कृषक मित्र के रूप में उनका चयन हुआ। यहीं से धनंजय महतो की जिंदगी बदल गई। वह आत्मा के अन्तर्राजकीय परिभ्रमण कार्यक्रम के तहत महाराष्ट्र गए जहां जैन इरीगेशन कम्पनी के फसल प्रक्षेत्र, संयत्र का भ्रमण किया। कम पानी में सूक्ष्म सिंचाई पद्यति से खेती-बारी की विधि को जाना जिसके बाद अपने खेतों में ये मल्चिंग विधि से सब्जी एवं फूलों की खेती करने लगे जिससे आमदनी में काफी बढ़ोत्तरी हुई। फूलों की खेती के नवीनतम तकनीक तथा मल्चिंग विधि के बारे में जानकारी प्राप्त कर धनंजय महतो ने कोलकाता से अच्छी किस्म के फूलों का चारा लेकर नर्सरी तैयार किया, इससे लागत में कमी के साथ-साथ अच्छी क्वालिटी के गेंदा फूल का उत्पादन कर रहे हैं। धनंजय महतो को खेती किसानी के कार्य में अपने परिवार का भी सहयोग मिलता है, कोड़ाई, रोपाई तथा

कोविड-19 योद्धाओं को सम्मानित करेगा इस बार इंडिया टुडे सफ़ाईगिरी अवॅार्डस का नया अंक

इंडिया टुडे कोरोना से जूझ रहे योद्धाओं की हिम्मत को बढ़ावा देते हुए, महामारी के दौरान उनके अग्रणीय प्रयासों और उपलब्धियों का सम्मानित करेगा जिनसे इस महामारी को नियंत्रित करने में काफ़ी मदद मिली है। दरअसल, 2015 में इंडिया टुडे द्वारा सफ़ाईगिरी पुरस्कार के पहले अंक की शुरूआत की गई थी। इसी समय हर वर्ष मनाया जाने वाला सफाईगिरी समारोह का यह छठा अंक है, जिसे इस बार मंच को अब इंडिया टुडे सफ़ाईगिरी- स्वास्थ्यगिरी सम्मान के नाम से जाना जाएगा। इसके लिये ग्रुप ने उन व्यक्तियों और संस्थाओं को नामंकन के लिये आमंत्रित किया, जो इस महामारी के दौरान जनसेवा सुधार में एक प्रशंसनीय योगदान दे रहे हैं। इस वर्ष जिन श्रेणियों के तहत पुरस्कार दिये जाएंगे उनमें कोविड-19 से सुव्यवस्थित तरीके से जुझने वाला सर्वोत्तम राज्य, जन चेतना के लिए जागरूक व्यक्तिविशेष का सर्वात्तम योगदान, बड़े स्तर पर समाजिक सुधार में योगदान देती सर्वोत्तम उद्यम संस्थान, सर्वोत्तम जांच प्रणाली व्यव्स्था, महामारी के दौरान समय समय पर प्रवासीयों को मदद देने वाली सर्वोत्तम गैर सरकारी संस्था या दूसरे संस्थान, महामारी के दौरान और कोविड से जुड़

योजनाओं की सौ फीसदी पहुंच के लिये डाक विभाग की फाइव स्टार योजना

देश के सभी गांवों में डाक योजनाओं की पहुंच सौ प्रतिशत बनाने के लिये डाक विभाग द्वारा फाइव स्टार गांव की योजना शुरू की गई है। फाइव स्टार योजना के अंतर्गत आने वाली योजनाओं में 1.बचत बैंक खाते, आवर्ती जमा खाते, एनएससी/केवीपीप्रमाण पत्र, 2) सुकन्या समृद्धि खाते / पीपीएफखाते, 3) वित्त पोषित डाकघर बचत खाता भारतीय डाक पेमेंट बैंक खाते, 4) पोस्टल लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी / ग्रामीण डाक जीवन बीमा पॉलिसी और 5) प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना खाता / प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना खाता शामिल हैं। अगर कोई गाँव पांच में से चार योजनाओं के लिए सार्वभौमिक कवरेज प्राप्त करता है, तो उस गाँव को फोर-स्‍टार दर्जा मिल जाएगा; यदि कोई गाँव तीन योजनाओं को पूरा करता है, तो उस गाँव को थ्री-स्‍टार दर्जा दिया जाएगा। केंद्रीय संचार राज्य मंत्री, संजय धोत्रे ने कहा कि यह योजना महाराष्ट्र में प्रारंभिक आधार पर शुरू की जा रही है; यहां के अनुभव के आधार पर, इसे देश भर में लागू किया जाएगा। महाराष्ट्र में शुरू करने के लिए, प्रत्येक क्षेत्र के लिए दो ग्रामीण जिलों / क्षेत्रों की पहचान की गई है, जिनमें नागपुर क्षेत्र में

शीर्ष शिक्षाविदों की राष्ट्रीय समिति का हुआ गठन

शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास के द्वारा देश के शीर्ष शिक्षाविदों की एक राष्ट्रीय समिति का गठन किया गया है, जिसका उद्येश्य नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति का प्रभावी रूप से क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जाना है। इस समिति का गठन देश के प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. विजय भाटकर की अध्यक्षता में हुआ है । डॉ. भूषण पटवर्धन, समिति के सलाहकार की भूमिका में एवं न्यास के राष्ट्रीय सचिव अतुल कोठारी संरक्षक रहेंगे । वरिष्ठ शिक्षाविद् डॉ. पंकज मित्तल, शोध विशेषज्ञ प्रो. वी. के. मल्होत्रा, ऑनलाइन एवं दूरस्थ विशेषज्ञ प्रो. नागेश्वर राव, तकनीकी शिक्षा से डॉ. प्रमोद कुमार जैन, प्रबंधन शिक्षा हेतु प्रो. शैलेन्द्र राज मेहता, कृषि विशेषज्ञ के रूप में डॉ. आर. सी. अग्रवाल, समावेशी शिक्षा के विशेषज्ञ प्रो. टी. वी. कट्टीमनी, विख्यात संस्कृत विद्वान डॉ. चांद किरण सलूजा, चेन्नई से प्रो. एस. पी. त्यागराजन, कौशल शिक्षा विशेषज्ञ प्रो. राज नेहरू, मूल्य शिक्षा से प्रो. अजय कुमार सिंह एवं भाषा विद्वान प्रो. विजयकांत दास को समिति के सदस्य नियुक्त किये गये है । शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास के कार्यकर्ता एडवर्ड मेंढ़े को समिति का समन्वयक ब

चुनावी सरगर्मी के बीच बिहार पर लिखित पुस्तक का विमोचन

Image
बिहार में चुनावी तैयारियां जोरों पर है। हर पार्टी की ओर से बिहार के विकास के लिये योजनाओं की बात की जा रही है। इसी बीच 9 सितंबर यानि बीते दिन राजनीति शास्त्र के प्रसिद्ध विद्वान डॉ.कामेश्वर झा लिखित " नित नूतन बिहार:उन्नायक नीतीश कुमार" नामक पुस्तक का एक भव्य समारोह में विमोचन किया गया। बिहार विधान सभा के अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने इस पुस्तक का विमोचन किया। इस मौके पर राज्य के पूर्व मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह एवं ए.एन. कालेज के प्राचार्य  प्रो.एस.पी.शाही मौजूद रहे। डॉ.झा ने इस पुस्तक में बिहार की विकास यात्रा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की भूमिका का उल्लेख किया है।  बिहार के मधुबनी जिले के उमरी ग्राम निवासी डॉ.झा ने विभिन्न विषयों पर कई पुस्तकें लिखी है। इनका नाम राज्य के प्रमुख विद्वानों में शुमार है।    

टेबल टेनिस खिलाड़ी मधुरिका पाटकर ने की फिट इंडिया फ्रीडम दौड में भाग लेने की अपील

Image
हम सभी भारत को एक फिट देश बनाने के लिए प्रतिभागी बन सकते हैं। लॉकडाउन के दौरान हम सभी अपने घरों में ही सीमित रहे हैं, लेकिन अब हम धीरे-धीरे बाहर निकल सकते हैं, दौड़ के साथ जुड़ने का यह बिल्कुल उपयुक्त समय है। यह एक मूलभूत व्यायाम है। मैं सबसे फिट इंडिया फ्रीडम दौड में भाग लेने की अपील करना चाहती हूं। यह बात पिछले महीने वर्चुअल राष्ट्रीय खेल पुरस्कार में 2020 में अर्जुन पुरस्कार जीतने वाली टेबिल टेनिस खिलाड़ी ने वर्तमान में जारी फिट इंडिया फ्रीडम दौड के महत्व के बारे में बताते हुए कही। दरअसल, फिट इंडिया फ्रीडम दौड खेत मंत्रालय द्वारा आयोजित सबसे बड़ी देशव्यापी दौड है जिसे केंद्रीय खेल एवं युवा मामले मंत्री किरेन रिजिजू द्वारा 14 अगस्त को लॉन्च किया गया था। यह 2 अक्टूबर तक जारी रहने वाला है। देशवासियों से इस दौड़ में भाग लेने की अपील करते हुए मधुरिमा ने कहा कि समूह में दौड़ने से काफी लाभ मिलते हैं। उन्होंने कहा, ‘जब मैं दौड़ने के लिए आउटडोर जाती हूं, मैं प्रकृति के साथ खुद को जुड़ा महसूस करती हूं और मेरे लिए बहुत लाभदायक अनुभव है। पहली बात तो यह कि हमें खुद के साथ आरंभ करने की आवश्यकता है और

वर्किंग जर्नलिस्ट्स ऑफ इंडिया की पहली डिजिटल मीडिया डायरेक्टरी लॉन्चिंग की तैयारी

Image
देश के पत्रकारों का शीर्ष संगठन, वर्किंग जर्नलिस्ट्स ऑफ इंडिया, सम्बद्ध भारतीय मजदूर संघ, मीडियाकर्मियों के लिये ,सत्ता के गलियारों से लेकर सड़को पर उतरने वाली यूनियन , अब कुछ नया करने जा रही है। इस यूनियन की दिल्ली यूनिट , इन दिनों , दिल्ली एनसीआर के मीडियाकर्मियों के पहली डिजिटल मीडिया डायरेक्टरी की लॉन्चिंग की तैयारी कर रही है।     गौरतलब है कि दिल्ली एनसीआर , विश्व का सबसे बड़ा मीडिया हब है । यहां  प्रिंट मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, डिजिटल/ऑनलाइन मीडिया, फ़ोटो जॉर्नलिस्ट्स, वीडियो जॉर्नलिस्ट्स, फ्रीलांसर्स, ब्रॉडकास्टर्स, कंटेंट राइटर, स्ट्रिंगर कार्यरत है । अगर बीट की बात करे तो दिल्ली पुलिस, कोई दिल्ली सरकार, 3 दिल्ली नगर निगम, केंद्र सरकार से जुड़े विभिन्न मंत्रालय, विभिन्न पब्लिक सेक्टर, बिज़नेस, खेल, मनोरंजन, फैशन, नाटक व रंगमंच आदि हैं। दिनभर पत्रकार अपने मीडिया से जुड़े कार्यो में व्यस्त रहते है । एक तरह से कहा जाए कि दिल्ली एनसीआर में हज़ारों पत्रकार है,  जिनकी पूरी जानकारी शायद ही किसी एजेंसी के पास होगी।    आपके पास मोबाइल है या लैपटॉप, आप तत्काल यहां के किसी भी मीडियाकर्म

देश में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ ही प्रतिदिन ठीक होने वाले मरीजों की संख्या में भी हो रही तेजी से बढ़ोत्तरी

 कोविड-19 बीमारी से देश में प्रतिदिन ठीक होने वाले मरीज़ों की संख्या में तेजी का सिलसिला जारी है। लगातार दो दिन से देश में एक ही दिन में 70,000 से अधिक कोविड रोगियों के ठीक होने का रिकॉर्ड दर्ज किया गया है। कोविड-19 बीमारी से अब तक ठीक होने वाले मरीज़ों की कुल संख्या बीते एक दिन यानि 6 सितंबर तक  में लगभग 32 लाख (31,80,865) तक पहुंच गई है। प्रतिदिन स्वस्थ होने वाले रोगियों की संख्या में वृद्धि के साथ देश में इस बीमारी से ठीक होने की दर बढ़कर 77.32% हो गई है। केन्द्र एवं राज्य सरकारों द्वारा व्यापक स्तर पर कराये जा रहे परीक्षणों की वजह से बड़ी संख्या में लोगों में संक्रमण की प्रारंभिक अवस्था की पहचान की गई है। इससे घर / सुविधा पृथकवास और अस्पताल में भर्ती दोनों तरह के मरीजों के लिए समय रहते इलाज संभव हो पा रहा है। भारत में मृत्यु दर, जो दुनिया में सबसे कम दरों में से एक है, में आगे भी कमी जारी है। 6 सितंबर को यह 1.72% आंकी गई।  

नक्सल उन्मूलन में केंद्र सरकार से सहयोग मांगते हुए छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री ने किया बस्तरिया बटालियन के गठन का आग्रह

नक्सल उन्मूलन के बेहतर क्रियान्वयन के लिये छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखते हुए पूर्व में आवंटित 7 सीआरपीएफ बटालियनों को राज्य को अतिशीघ्र उपलब्ध कराने की मांग की है। इसके साथ ही उन्होंने बस्तर के युवाओं के लिए विशेष भर्ती रैली एवं एक अतिरिक्त बस्तर बटालियन के गठन का भी आग्रह किया है। मुख्यमंत्री ने पत्र में कहा है कि वर्ष 2018 में गृह मंत्रालय ने छत्तीसगढ़ राज्य के लिए 07 अतिरिक्त सीआरपीएफ बटालियन आवंटित की गई थी, जिसे दक्षिण बस्तर के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में तैनात किया जाना था। चयनित लोकेशन पर निर्माण कार्य पूर्ण करा लिया गया है, इसलिए पूर्व में आवंटित 7 सीआरपीएफ बटालियनों को राज्य को अतिशीघ्र उपलब्ध कराया जाए। नक्सल प्रभावित जिलों में दूर संचार सुविधा में वृद्धि हेतु 1028 मोबाइल टावरों की स्थापना की स्वीकृति दी गयी थी, इसके लिए लोकेशनों का चयन कर गृह मंत्रालय को भेजा जा चुका है। टॉवरों की स्थापना जल्द किया जाए, जिसका लाभ आम लोगों के साथ ही सुरक्षा बलों को भी हो सके। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने पत्र में बस्तर के युवाओं के लिए सेना द्वारा वि

बदलने लगा है बिहार में राजनीतिक समीकरण

Image
बिहार विधान सभा का चुनाव ज्यों-ज्यों नजदीक आ रहा है,दल बदल का खेल जोर पकड़ने लगा है।इसके साथ ही राजनीतिक समीकरण भी बदलने लगे हैं। राज्य में विधायकों के पाला बदल के साथ कौन किसके साथ मिलकर चुनाव लडेगा? यह भी स्पष्ट होने लगा है। राजनीतिक गणकों के अनुसार महागठबंधन में राजद एवं कांग्रेस के अलावा वाम दल रह जाएंगे,जबकि राजग में जदयू एवं भाजपा के अलावा लोजपा एवं हम दिखाई देंगे।  महागठबंधन में शामिल रहे उपेन्द्र कुशवाहा एवं मुकेश सहनी की स्थिति अभी साफ नहीं है। वे इधर रहेंगे या उधर। संभावना ऐसी दिखाई दे रही है,कि अगर ये महागठबंधन में रहेंगे तो इस बार इन्हें जरुरत की सीटें ही मिल पाएगी।  देश के अन्य राज्यों में सक्रिय रांकपा,तृणमूल,सपा एवं बसपा भी बिहार में अपनी जमीन तलाशने में लगी है, किंतु चुनावी मैदान में उतरने को लेकर अभी तस्वीर साफ नहीं है। राज्य में दोनों गठबंधनों का स्वाद चख चुके कई हस्तियां इस बार अपने दम पर चुनावी जंग में दिखाई देंगे। राजद के कद्दावर नेता रहे बाहुवली पप्पू यादव खुद का दल जनाधिकार पार्टी के प्रत्याशियों के पक्ष में मैदान में होंगे।हो सकता है वह खुद भी चुनाव लड़ें? इसी

सहनी एवं कुशवाहा को लेकर महागठबंधन में उलझन

Image
बिहार में महागठबंधन में मांझी के बाद मुकेश सहनी एवं उपेन्द्र कुशवाहा की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। समन्वय समिति की मांग करने वाले राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को आख़िरकार अपना रास्ता बदलना पड़ा और वे नीतीश कुमार के साथ हो चले। कहा जा रहा है,कि महागठबंधन के प्रमुख घटक राजद एवं कांग्रेस लोक सभा चुनाव के अनुभवों को देखते हुए सहनी से भी दूरियां बढ़ाने के मूड में है,क्योंकि इससे गठबंधन को फायदा होने के वजाय नुकसान की आशंका जताई जा रही है। सूत्र बताते हैं,  सहनी सीट की मांग तो करते हैं,लेकिन अपने प्रत्याशियों का नाम नहीं बताना चाहते हैं। इसका मतलब क्या हो सकता है? उधर कुशवाहा की भी कमोवेश यही समस्या है। सूत्रों के अनुसार दिलचस्प बात तो यह है, कि ये दोनों ही नेता अपनी- अपनी बिरादरी के अपने को एकक्षत्र नेता घोषित करते हैं, लेकिन वास्तविकता यह है कि दोनों ही समुदाय के कई दिग्गज अलग-अलग दलों में हैं।  

क्षेत्रीय समस्याओं को लेकर झारखंड के पोटका के पूर्व जिला पार्षद ने की पूर्वी सिंहभूम के उप जिला उपायुक्त से मुलाकात

Image
झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिले अन्तर्गत पोटका प्रखंड के चाँदपुर पंचायत स्थित रंगामटिया गाँव में टी.एस.आर.डी.एस. द्वारा निर्मित जलमीनार स्थित मशीन के खराब होने से गांव में पेयजल संकट काफी समय से उत्पन्न हो गया है। इसके साथ ही पंचायत - डोमजुड़ी के गाँव - राजदोहा स्थित टोला - प्रमुख नगर में बिजली की समस्या स लोग काफी परेशान हैं। इसे लेकर जिला परिषद सदस्या प्रतिमा रानी मंडल के निर्देश पर पूर्व जिला पार्षद करूणामय मंडल ने पूर्वी सिंहभूम के उप विकास आयुक्त से मुलाकात की। गांव की समस्या से अवगत कराते हुए करूणामय मंडल ने कहा कि .एस.आर.डी.एस. द्वारा निर्मित जलमीनार स्थित मशीन पिछले कुछ माह से ख़राब रहने के कारण गांव में पेयजल संकट पैदा हो गया है, वहीं पंचायत - डोमजुड़ी के गाँव - राजदोहा स्थित टोला - प्रमुख नगर में विगत एक वर्ष पूर्व संवेदक द्वारा खंभे में केबल खींचे जाने, ट्रांसफॉर्मर लगाये जाने आदि काम पूरा किये जाने के बाद भी बिजली विभाग द्वारा संवेदक को काली सूचि में किये जाने का बहाना बनाकर अब तक कनेक्शन नहीं दिया गया है। पूर्व जिला पार्षद ने इन समस्याओं की जानकारी देते हुए उप विकास आयुक्त स

प्रतिभाशाली खिलाड़ियों की नियुक्ति के लिए पात्र खेलों की सूची में अब खेलों की संख्या हुई 43 से बढ़कर 63

अब भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों में खेल कोटे के अंतर्गत नौकरियों के लिए लिये अन्य 20 खेलों के खिलाड़ियों को भी पात्रता मिलेगी। इससे पूर्व भारत सरकार और विभिन्न मंत्रालयों में नौकरियों के लिए खेल कोटे के अंतर्गत 43 खेलों के एथलीट ही पात्र थे। इस सूची को पिछली बार अक्टूबर, 2013 में संशोधित किया गया था। इसकी समीक्षा की गई और अब स्वदेशी और पारम्परिक खेलों सहित 20 नए खेलों को जोड़ दिया गया है। कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी), भारत सरकार द्वारा जारी संशोधित सूची में शामिल नये खेलों में बेसबाल, बॉडी बिल्डिंग, साइक्लिंग पोलो, डीफ स्पोर्ट्स, फेंसिंग, कुडो, मल्लखम्ब, मोटरस्पोर्ट्स, नेट बाल, पैरा स्पोर्ट्स (पैरालम्पिक और पैरा एशियाई खेलों में शामिल खेल), पेनकेक सिलट, रोल बाल, रग्बी, सेपक टकरा, सॉफ्ट टेनिस, शूटिंग बाल, टेनपिन बॉलिंग, ट्राइएथलॉन, टग ऑफ वार और वुशु हैं। गौरतलब है कि केन्द्र सरकार के कार्यालयों में प्रतिभाशाली खिलाड़ियों की नियुक्ति के लिए पात्र खेलों की सूची में अब खेलों की संख्या हुई 43 से बढ़कर 63 हो गई है।

राजभाषा हिंदी के प्रचार-प्रसार में निरंतर कार्यान्वयन के लिए आरईसी को प्रथम पुरस्कार

वर्ष 2018-19 के लिए राजभाषा हिंदी के कार्यान्वयन हेतु विद्युत मंत्रालय के नियंत्रणाधीन 11 संस्थानों में आरईसी लिमिटेड ,  नई दिल्ली कार्यालय को ‘ एनटीपीसी राजभाषा शील्ड पुरस्कार योजना ’ के तहत प्रथम पुरस्कार हेतु चयनित किया गया है। यह पुरस्कार विद्युत मंत्रालय की हिंदी सलाहकार समिति की अगली बैठक में समिति के अध्यक्ष  विद्युत ,  नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) द्वारा प्रदान किया जाएगा। कंपनी द्वारा पिछले कुछ वर्षों में देश-भर में हिंदी से संबंधित कई गतिविधियां आयोजित की गई हैं। इनमें हिंदीतर क्षेत्रों जैसे कि बंगलुरु ,  कोलकाता ,  तिरुवनंतपुरम और शिलांग में राजभाषा सम्मेलनों का आयोजन प्रमुख है। गौरतलब है कि आरईसी लिमिटेड एक नवरत्न एनबीएफसी है जो पूरे भारत में विद्युत क्षेत्र के वित्तपोषण और विकास पर केंद्रित है। इसके द्वारा राज्यों के बिजली बोर्ड ,  राज्य सरकारों ,  केंद्र/राज्य की बिजली इकाइयों ,  स्वतंत्र बिजली उत्पादकों ,  ग्रामीण विद्युत सहकारी समितियों और निजी क्षेत्र की इकाइयों को वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है।

किताबें, जो अब अक्सर उदास रहती हैं

Image
किताबें, जो अब अक्सर उदास रहती हैं.. तड़पती हैं, अपने अस्तित्व को सोचती हैं.. अलमारियों, पुस्तकालयों में अरसे से सजी हूँ.. न ताकता है कोई न दिल की आरजू हूँ.. मायूसी है जहाँ की.. तन्हा सी मैं पड़ी हूँ.. पहरों निहारती हूँ पास आ जाए कोई.. मुझ पर जमीं गर्द को हटाकर... अपने हाथों की नर्म ऊँगलियों से, मेरे पन्नों को पलटकर अक्षरशः पढ़ जाए कोई.. मेरी तमाम खूबियों को औरों से बताए कोई... साथी हूँ उम्र भर की, आकर मुझे आजमाए कोई...।।

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी पंचतत्व में विलीन

Image
  नयी दिल्ली, राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का पार्थिव शरीर पंचतत्व में आज विलीन हो गया।  प्रणब मुखर्जी का कल यहां निधन हो गया था। वह 84 वर्ष के थे। उनका अंतिम संस्कार दिल्ली में लोधी रोड श्मसान घाट पर किया गया। इससे पूर्व 10 राजा जी मार्ग स्थित उनके आवास से शव यात्रा निकाली गयी।    गौरतलब है कि प्रणब मुखर्जी ने कल यहाँ आर.आर अस्पताल में अंतिम सांस ली थी। उन्हें गत 10 अगस्त को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वह कोरोना रोग से भी ग्रसित थे।  प्रणब मुखर्जी को राष्ट्रपति रामनाथ कोविद् एवं प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी सहित अनेक नेताओं ने अंतिम विदाई दी। अपने मूल्यों एवं सिद्धांतों पर हमेशा कायम रहने वाले प्रणव मुखर्जी हमेशा देशवासियों के दिलों में बने रहेंगे।