नहीं रहे वरिष्ठ साहित्यकार उदय कान्त पाठक, 82 वर्ष की उम्र में हुआ निधन।

वरिष्ठ साहित्यकार उदय कान्त पाठक "मुन्ना बाबू" का बीती रात दरभंगा के एक निजी अस्पताल में निधन हो  गया । वह 82 वर्ष के थे। वह कुछ दिनों से अस्वस्थ चल रहे थे। वह बिहार के मधुबनी जिले के भेजा ग्राम के रहने वाले थे। वह लोगों के बीच मुन्ना बाबू के नाम से प्रसिद्ध थे।


उदयकांत पाठक अपने पीछे पत्नी के अलावा तीन पुत्रों अमरेन्द्र पाठक, डॉ. समरेन्द्र पाठक, अरविन्द पाठक  एवं  पुत्री नीलम झा का भरा पूरा परिवार छोड़ गए है।


पेशे से शिक्षक रहे पाठक मीडिया ग्रुप  "लोक संगठन " एवं "यूनाइटेड बुलेटिन" ग्रुप के निदेशक एवं प्रधान संपादक थे। वह अरसे तक बिहार से प्रकाशित प्रमुख दैनिक इंडियन नेशन , आर्यावर्त एवं मिथिला मिहिर से भी जुड़े थे। उन्हें साहित्यिक रचना के लिए अनेक पुरस्कारों से नवाजा गया था।


  पाठक ने अपने ग्राम से लेकर दिल्ली तक कई शिक्षण संस्थानों की स्थापना में अहम् भूमिका अदा की थी। वरिष्ठ साहित्यकार पाठक के निधन पर बिहार कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. मदन मोहन झा , विधायक ललित यादव , विधायक कमर आलम , बिहार की पूर्व मंत्री डॉ. रेणु कुशवाहा , पूर्व सांसदों  पप्पू यादव , रंजीता रंजन एवं डॉ. अरुण कुमार, बिहार सरकार के पूर्व प्रेस सलाहकार डॉ. आर.के. रमण सहित  कई हस्तियों ने गहरा शोक व्यक्त किया है।


साहित्य एवं पत्रकारिता क्षेत्र से जुड़े हस्तियों सिने इंडिया टीवी के प्रधान संपादक कुमार समत, राजस्थान पत्रकार संघ के अध्यक्ष ओमेंद्र दाधीच एवं प्रसिद्ध हरियाणवी कवि ओणम ने भी गहरा शोक व्यक्त किया है।


 


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

पश्चिमी सिंहभूम चाईबासा जिला में नये डीसी ने पद संभालते हुए कहा-जिले के सभी लोगों को सशक्त करना मेरी प्राथमिकता