सहनी एवं कुशवाहा को लेकर महागठबंधन में उलझन


बिहार में महागठबंधन में मांझी के बाद मुकेश सहनी एवं उपेन्द्र कुशवाहा की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। समन्वय समिति की मांग करने वाले राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को आख़िरकार अपना रास्ता बदलना पड़ा और वे नीतीश कुमार के साथ हो चले।


कहा जा रहा है,कि महागठबंधन के प्रमुख घटक राजद एवं कांग्रेस लोक सभा चुनाव के अनुभवों को देखते हुए सहनी से भी दूरियां बढ़ाने के मूड में है,क्योंकि इससे गठबंधन को फायदा होने के वजाय नुकसान की आशंका जताई जा रही है।


सूत्र बताते हैं,  सहनी सीट की मांग तो करते हैं,लेकिन अपने प्रत्याशियों का नाम नहीं बताना चाहते हैं। इसका मतलब क्या हो सकता है? उधर कुशवाहा की भी कमोवेश यही समस्या है।


सूत्रों के अनुसार दिलचस्प बात तो यह है, कि ये दोनों ही नेता अपनी- अपनी बिरादरी के अपने को एकक्षत्र नेता घोषित करते हैं, लेकिन वास्तविकता यह है कि दोनों ही समुदाय के कई दिग्गज अलग-अलग दलों में हैं।


 


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

दिल्ली के लिये हरियाणा से पानी की कमी को लेकर आप नेताओं ने किया, दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के घर का घेराव।