एटॉमी इंडिया की 2025 तक भारत में मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स लगाने की योजना है।

 मीमांसा डेस्क, नई दिल्ली,


9 नवंबर 2021 को दक्षिण कोरिया की ग्लोबल डायरेक्ट सेलिंग कंपनी एटॉमी की भारतीय शाखा एटॉमी इंडिया की पहली वर्षगांठ समारोह के अवसर पर कंपनी ने घोषणा की कि 2025 तक उसकी भारत में मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स लगाने करने की योजना है। यह दुनियाभर के लिए मेक इन इंडिया विजन को मजबूत कर राष्ट्र को सशक्त बनाएगी। वर्तमान में एटॉमी इंडिया पेरेंट कंपनी.एटॉमी से इम्पोर्ट के माध्यम से भारतीय बाजार की जरूरतों को पूरा करती है।

वर्षगांठ समारोह के अवसर पर एटॉमी ने भारतीय बाजार के लिए अपनी व्यापक योजनाओं के बारे में  भी पेश करते हुए कहा कि वह 2022 तक अपनी ग्लोबल सोर्सिंग ग्लोबल सेल्स (जीएसजीएस) लॉन्च करने के लिए तैयार है। एब्सोल्यूट क्वालिटी एवं एब्सोल्यूट प्राइस के दर्शन के साथ एटॉमी इंडिया स्किन केयर, लिविंग फूड, हेल्थ सप्लीमेंट और अन्य श्रेणियों में कोरियाई उत्पादों के साथ भारतीय बाजारों में अपनी उपस्थिति दर्ज करा रही है।

एटॉमी इंडिया के प्रबंध निदेशक डॉ. शेख इम्तियाज अली (अब्राहम ली) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि भारत की पहचान आयुर्वेदिक उत्पादों के प्राचीन रहस्य के लिए है और इसे दुनिया भर में इसके लिए मान्यता प्राप्त है। एटॉमी की ग्लोबल सोर्सिंग, ग्लोबल सेल्स, (जीएसजीएस) मार्केट रणनीति के साथ हम भारतीय आयुर्वेदिक उत्पादों को दुनिया के विभिन्न हिस्सों में निर्यात करने की योजना बना रहे हैं। लगभग 50 से अधिक देशों में एटॉमी का ग्लोबल डिस्ट्रिब्यूशन नेटवर्क है। निदेशक ने कहा कि भारत में व्यापार संचालन के एक साल के भीतर हमने बड़े पैमाने पर अपने प्रोडक्ट्स के लिए लोकप्रियता हासिल की है। अब हम अपने संपूर्ण क्वालिटी वाले प्रोडक्ट्स के साथ हर घर में प्रवेश करने की योजना बना रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि एटॉमी इंडिया हमारी अपनी मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स या भारतीय एमएसएमई से सोर्सिंग के माध्यम से मेक इन इंडिया में सक्षम होगा, या यह दोनों का मिश्रण भी हो सकता है। हम 2025 तक भारत में मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स स्थापित करने की योजना बना रहे हैं।

आगामी योजनाओं के बारे में जानकारी देते हुए डॉ शेख इम्तियाज अली ने कहा कि कंपनी ने बाजार पर कब्जा करने के लिए अपने सबसे लोकप्रिय पर्सनल केयर प्रोडक्ट्स का लाभ उठाने की योजना बनाई है। साथ ही लोगों की जीवनशैली को बेहतर बनाकर लोगों के जीवन को समृद्ध बनाने में विश्वास किया है। एक साल में हमने अपने प्रसिद्ध स्किन केयर ब्रांड द फेम सहित भारत में कई कोरियाई प्रोडक्ट्स को लॉन्च किया है। हम हेल्थ सप्लीमेंट्स और फूड कैटेगरी में अधिक प्रोडक्ट लॉन्च करने की योजना बना रहे हैं।

स्किन केयर रेंज के प्रोडक्ट नई तकनीक, नई सामग्री से बने हैं और त्वचा की जलन को कम करते हैं। अन्य सभी पर्सनल केयर और घरेलू प्रोडक्ट्स की नई तकनीकों के साथ उनके रिसर्च आधारित विकास के कारण अत्यधिक लोकप्रियता है। हमें अपने ग्राहकों से अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है, इसलिए हम बड़े हिस्से के लिए विस्तार करेंगे।

एटॉमी इंडिया का लक्ष्य अपने एटॉमी पर्सनल प्लेटफॉर्म की मदद से नेक्स्ट जेनरेशन ऑफ शॉपिंग एक्सपीरियंस प्रदान करना है जो कई इच्छुक व्यवसाय मालिकों के लिए भी अवसर पैदा करता है। एटॉमी इंडिया अपने एडवांस टेक्नोलॉजिकल विजन पर निर्भर है। इसने एमओएफएसी के साथ भी सहयोग किया है, जिसे वर्चुअल प्रोडक्शन में 20 से अधिक वर्षों का अनुभव है और यह वीआर (वर्चुअल रियलिटी) एआर (ऑगमेंटेड रियलिटी) पर बहुत सक्रिय रूप से काम कर रहा है और एक्सआर (एक्सटेंडेड रियलिटी) को जन्म दे रहा है।

इस मौके पर एटॉमी इंडिया के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर राहुल कोकडवार ने अपने विचार साझा करते हुए कहा- एटॉमी में मासिस्टज स्ट्रेटेजी है, जो एब्सोल्यूट क्वालिटी एब्सोल्यूट प्राइस दर्शन पर काम करती है। इस प्रोडक्ट फिलॉसफी की मदद से एटॉमी के दक्षिण कोरिया में 426 उत्पाद हैं और भारत में पर्सनल केयर, लिविंग फूड और हेल्थ सप्लीमेंट्स में 63 उत्पाद हैं।

 राहुल कोकडवार ने यह भी कहा कि केवल एक दशक में जो बड़ी सफलता सामने आई है, वह एटॉमी कंपनी लिमिटेड के संस्थापक और अध्यक्ष डॉ हान गिल पार्क के विजन और मिशन का परिणाम है, जो हमेशा सदस्यों से दूसरों के जीवन को संवारने में योगदान देने का आग्रह करते हैं क्योंकि सामाजिक योगदान विकल्प नहीं, बल्कि जरूरत है।

भारत में सफल व्यवसाय संचालन के एक वर्ष के अवसर पर एटॉमी 9 नवंबर 2021 को डॉक्टरों के लिए एक विशेष सम्मान समारोह की मेजबानी की गई जिसमें व्यक्तिगत रूप से 100 डॉक्टरों को सम्मानित किया गया।

महामारी से लड़ने के दौरान डॉक्टरों के द्वारा किए गए प्रयासों का सम्मान करते हुए कंपनी ने फेम स्किन केयर सेट देना सुनिश्चित किया। दरअसल, डॉक्टरों ने लंबे समय तक मास्क पहना और इससे उन्हें मास्कने की चिंता बढ़ गई है। डॉक्टर लंबे समय तक फेस मास्क पहनते हैं और इससे पिंपल्स को जन्म देता है। साथ ही चेहरे पर दर्द और अन्य सेंसिटिविटी आती है। फेम स्किन केयर सेट हमारे डॉक्टरों को त्वचा की क्षतिग्रस्त परतों को फिर से जीवंत करने में मदद करेगा क्योंकि यह हाई प्यूरीफिकेशन टेक्नोलॉजीए फर्मेंटेशन टेक्नोलॉजी की मदद से तैयार किए गए प्राकृतिक अवयवों से बना है।

 

Popular posts from this blog

झारखंड हमेशा से वीरों और शहीदों की भूमि रही है- हेमंत सोरेन, मुख्यमंत्री झारखंड

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।