झारखंड हमेशा से वीरों और शहीदों की भूमि रही है- हेमंत सोरेन, मुख्यमंत्री झारखंड

सुकांति साहू, खरसावां


मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने 1 जनवरी को नये साल सरायकेला- खरसावां जिला अंतर्गत खरसावां के वीर शहीद केरसे मुंडा चौक में शहीद स्मृति चिन्ह और शहीद पार्क स्थित शहीद स्मारक (शहीद बेदी) पर  माल्यार्पण कर खरसावां गोलीकांड के वीर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड हमेशा से वीरों और शहीदों की भूमि रही है

यहां के अनगिनत वीरों ने राज्य और देश की खातिर अपनी शहादत दी है । इतिहास के पन्नों में ऐसे कई शहीदों के नाम दर्ज हैं तो कई आज भी गुमनाम हैं। खरसावां गोलीकांड समेत अन्य गुमनाम शहीदों की पहचान कर उनके आश्रितों को सरकार सम्मान और अधिकार देने का प्रयास कर रही है ।

गौरतलब है कि हर वर्ष 1 जनवरी को खरसावां गोलीकांड के वीर शहीदों को नमन और श्रद्धांजलि देने बड़ी संख्या में लोगों के यहां आने की परंपरा वर्षों से चली आ रही है । पीढ़ी- दर- पीढ़ी इन शहीदों की वीर गाथा से अवगत रहे, इसका ख्याल रखना है । मुख्यमंत्री ने कहा कि खरसावां गोलीकांड के वीर शहीदों की याद में निर्मित शहीद पार्क को पर्यटक स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा । इसके लिए राज्य सरकार ने 16 करोड़ रुपए की स्वीकृति दी है। इस राशि से शहीद पार्क के सौंदर्यीकरण के अलावा यहां बहुउद्देशीय भवन समेत कई  सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी।

राज्य के अमर शहीदों और अलग राज्य के लिए संघर्ष करने वाले आंदोलनकारियों अथवा उनके आश्रितों को पेंशन समेत अन्य सुविधाएं सरकार द्वारा दी जा रही हैंउन्हे उनका पूरा हक और अधिकार मिलेगा । इस सिलसिले में झारखंड के अमर शहीदों के आश्रितों को सरकारी नौकरियों में 5 प्रतिशत क्षैतिज आरक्षण देने का अति महत्वपूर्ण निर्णय सरकार ने लिया है ।

Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

SAHAY के जरिये मिलेगी नक्सल प्रभावित क्षेत्र के युवाओं को नई पहचान।