झारखंड के सिमडेगा में स्पोकेन इंग्लिश, बॉडी लैंग्वेज और अन्य स्किल में दक्ष होंगे युवा।

चिन्मय दत्ता, रांची/सिमडेगा

झारखण्ड का जिला सिमडेगा में अब युवा स्पोकेन इंग्लिश, बॉडी लैंग्वेज और अन्य स्किल से सम्पन्न होंगे। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद सिमडेगा में कॅरियर काउंसलिंग एण्ड स्किल डेवलपमेंट सेन्टर की शुरुआत की गई है, ताकि यहां के युवा केन्द्र की बेहतर सुविधाओं का लाभ लेते हुए अपने भविष्य को गढ़ सकें। युवाओं को एक ही छत के नीच कॅरियर काउंसेलिंग, स्पोकेन इंग्लिश, स्किल डेवलपमेंट और पर्सनालिटी डेवलपमेंट की सुविधा मिल रही है।

इस सेंटर में करियर काउंसेलिंग एण्ड स्किल डेवलपमेंट सेन्टर में युवाओं को विभिन्न प्रकार की नियुक्तियों में आवेदन प्रक्रिया की सुविधा मिल रही है। इसके लिए इंटरनेट युक्त दस कम्प्यूटर, लाईब्रेरी, कॉफी सेंटर, लाइव डेमो हेतु टीवी, प्रोजेक्टर की सुविधा रहेगी। हर सप्ताह खिलाड़ियों, दिव्यांग, बाल सम्प्रेक्षण गृह के बच्चों, नियोजनालय के निबंधित युवक-युवतियों तथा सरकारी कर्मियों के कॅरियर काउंसेलिंग एण्ड स्किल डेवलपमेंट के कार्य किये जाएंगे। युवाओं को सभी स्किल से परिपूर्ण करने के लिये दक्ष काउंसलरों की नियुक्ति की गई है, जो स्पोकेन इंग्लिश, बॉडी लैंग्वेज और अन्य स्किल के बारे में जानकारी देंगे।  वहीं सेंटर के सफल संचालन हेतु युवाओं के सहज पहुँच वाली जगह को ध्यान में रखते हुए केन्द्र की स्थापना जिला नियोजन कार्यालय में की गई है। 


इसके साथ ही महिला खिलाड़ियों पर भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है। दरअसल, सिमडेगा हॉकी के नर्सरी के रूप में जाना जाता है। देश की महिला हॉकी टीम के टोक्यो ओलिंपिक में हुए प्रदर्शन के दौरान सबकी आंखे यहां की दो खिलाड़ियों निक्की प्रधान और सलीमा टेटे के प्रदर्शन पर टिकी रही। यहां महिला हॉकी खिलाड़ी अपने हुनर को निखार रही हैं। लेकिन, देश या विदेशों में जाने पर यहां के खिलाड़ियों में आत्मविश्वास की कमी हो जाती है क्योंकि वे ग्रामीण परिवेश से वहां तक पहुंचते हैं। यही वजह है कि महिला खिलाड़ियों के लिए बॉडी लैंग्वेज प्रशिक्षण, कॅरियर काउंसेलिंग और स्पोकेन इंग्लिश प्रशिक्षण की व्यवस्था विशेष रूप से की गई है, जिससे उनका आत्मविश्वास  बढ़ेगा। इस सेंटर के बारे में सिमडेगा उपायुक्त सुशांत गौरव ने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के मार्गदर्शन और निर्देश पर विस्तृत योजना तैयार की गई है। सेंटर में खिलाड़ियों और अन्य युवाओं को एक ही छत के नीचे सारी सुविधाएं दी जा रही हैं। इस जगह को हम सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के रूप में बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

 

 

Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

SAHAY के जरिये मिलेगी नक्सल प्रभावित क्षेत्र के युवाओं को नई पहचान।