मानव शरीर के कई हिस्से मशीन के बन चुके हैं, लेकिन रक्त का अब तक विकल्प नहीं --हेमन्त सोरेन, मुख्यमंत्री।

सुकांति साहू, रांची


विश्व रक्तदाता दिवस पर 14 जून को झारखण्ड एड्स कंट्रोल सोसायटी द्वारा आयोजित कार्यक्रम में बोलते हुए रहे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि झारखण्ड के ब्लड बैंकों में खून की कमी रहती है। समय पर रक्त नहीं मिलने से कई लोगों की मृत्यु हो जाती है। जिसे देखते हुए कुछ जिलों में ब्लड कंपोनेंट सेपरेशन यूनिट निर्माण के लिये शिलान्यास किया गया है। सभी जिलों में इस तरह की व्यवस्था हो, इस लक्ष्य के साथ सरकार आगे बढ़ रही है, ताकि ब्लड बैंक में खून की कमी ना हो और किसी की मृत्यु का कारण खून की कमी ना बने।

 


मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ऐसी व्यवस्था करने में जुटी है, जिससे ऑनलाइन जरूरतमंदों को ब्लड उपलब्ध कराया जा सके और उनके परिजन इसके लिए परेशान ना हो। यह तभी संभव है, जब हम मिलकर अपनी जिम्मेदारियों को समझते हुए रक्तदान करेंगे जो उनके लिए प्रेरणा स्रोत बनेगा और अन्य लोग भी रक्तदान के लिए आगे आएंगे। राज्य की महिलाओं और युवतियों में खून की कमी पाई जाती है। सरकार इस कमी को दूर करने के प्रयास में सरकार जुटी है ताकि आने वाली पीढ़ी को सुदृढ़ बनाया जा सके। इस मोके पर रक्तदान करने के लिये लोगों को प्रोत्साहित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी दानों से बड़ा रक्तदान है। मानव शरीर के कई हिस्से मशीन के बन चुके हैं। लेकिन रक्त का विकल्प अब तक नहीं मिला है। इसलिए इसे महादान की श्रेणी में रखा गया है शरीर में रक्त का बनना अनवरत प्रक्रिया है। समय-समय पर अगर हम रक्तदान करते हैं तो रक्तदाता स्वस्थ रह सकता है।


इस विशेष अवसर पर राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि इंसान ही इंसान को खून उपलब्ध कराता है, अभी तक इसका अन्य विकल्प नहीं है। राज्य के विभिन्न जिलों में ब्लड कंपोनेंट सेपरेशन यूनिट का शिलान्यास मिल का पत्थर साबित होगा। शरीर के लिये रक्तदान अनिवार्य है। इससे शरीर में सकारात्मक परिवर्तन होता है। हम सब को रक्तदान करना चाहिए। मंत्री ने रक्तदान कार्यक्रम में शामिल होकर रक्तदान भी किया।

 


विश्व रक्त दान दिवस को लेकर उपायुक्त सह जिला दण्डाधिकारी, सूरज कुमार ने कहा कि सभी रक्तदाताओं को आभार व्यक्त करना चाहता हूं, जिनके प्रयास से कई बहूमूल्य जीवन बच रहे हैं। इसी क्रम में मुख्यमंत्री के द्वारा 6 जिलों में ब्लड कंपोनेंट सेपरेशन यूनिट का शिलान्यास किया गया है जिसमें एक पूर्वी सिंहभूम भी है । उन्होने कहा कि सदर अस्पताल में अब ब्लड कंपोनेंट का सेपरेशन होना शुरू हो जाएगा । इसके साथ ही जिला प्रशासन का प्रयास है कि सदर अस्पताल में चिकित्सा व्यवस्था को दुरुस्त कर ग्रामीण क्षेत्र से जो व्यक्ति इलाज के लिए यहां आते हैं उनको और बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराया सके एवं कोल्हान के सबसे बड़े अस्पताल एमजीएम से लोड कम किया जाए ।


इस मौके पर गिरिडीह विधायक सुदिव्या कुमार, अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के सचिव विनय कुमार चौबे, झारखण्ड स्टेट एड्स कंट्रोल सोसायटी के प्रोजेक्ट डायरेक्टर भुवनेश प्रताप सिंह उपस्थित थे। वहीं ऑनलाइन रांची विधायक, जमशेदपुर से जुगसलाई विधायक मंगल कालिंदी, पोटका विधायक संजीब सरदार, बहरागोड़ा विधायक समीर महंती, घाटशिला विधायक रामदास सोरेन, सिविल सर्जन डॉ ए के लाल, एसीएमओ डॉ साहिर पाल, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी रोहित कुमार, डीआरसीएचओ डॉ बीएन ऊषा व विभिन्न जिलों में स्थित ब्लड बैंक के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

 

Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

पश्चिमी सिंहभूम चाईबासा जिला में नये डीसी ने पद संभालते हुए कहा-जिले के सभी लोगों को सशक्त करना मेरी प्राथमिकता