महिला समूहों को कृषि क्षेत्र से जोड़कर सशक्त बनाने की दिशा में राज्य सरकार उठा रही है कदम-कृषि मंत्री झारखंड

चिन्मय दत्ता, रांची।


झारखंड के कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता मंत्री बादल पत्रलेख ने कहा कि कृषि के क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए सरकार कई कदम उठा रही है। इसी दिशा में राज्य के 425  महिला समूह को  ट्रैक्टर और रोटावेटर  80 प्रतिशत अनुदान पर दिया जा रहा है, जिसकी शुरुआत रांची से की जा रही है। वह 14 जून सोमवार को जे. ए.एम.टी.टी.सी.परिसर में कृषि यांत्रिकीकरण प्रोत्साहन योजनांतर्गत मिनी ट्रैक्टर एवं सहयोगी कृषि यंत्र के वितरण समारोह में बोल रहे थे।

 


राज्य के कृषि मंत्री बादल ने कहा कि मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन के नेतृत्व में राज्य के किसानों से जुड़ी कई योजनाओं का संचालन किया जा रहा है जिसमे बीज, खाद वितरण के साथ कृषि यांत्रिकीकरण पर भी जोर दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार प्रथम चरण में उत्कृष्ट महिला समूह को 425 ट्रैक्टर और रोटावेटर दे रही है। इन कृषि यंत्रों के लिए 4 लाख रुपए सरकार के द्वारा अनुदान स्वरूप दिए जा रहे हैं जबकि महिला समूह की ओर से करीब सवा लाख रुपए दिए गए हैं। 


मंत्री ने कहा कि कृषि यंत्र वितरण कार्यक्रम सभी प्रखंडों में जन प्रतिनिधि की उपस्थिति में वितरित किए जायेंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि आगामी 4 साल में 24 लाख  कृषि से जुड़े लोगों को सहायता पहुंचाने का लक्ष्य है। महिलाओं को एम्पावर करने की दिशा में छोटे छोटे महिला समूह को कृषि क्षेत्र से जोड़ा जा रहा है।  

इस अवसर पर जे. ए.एम.टी.टी.सी. के कार्यपालक निदेशक आर पी सिंह ने बताया कि जिन महिला समूह को ये ट्रैक्टर दिया जा रहे हैं उन्हें पूरी तरह से प्रशिक्षित किया गया है साथ ही उन्हें ड्राइविंग की भी ट्रेनिंग दी गई है। उन्होंने कहा कि सभी ट्रैक्टर का एक साल का इंश्योरेंस और रजिस्ट्रेशन कराया गया है। जल्द ही पूरे प्रदेश स्तर पर चयनित महिला समूह के बीच भी वितरण किया जायेगा।

 

 


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

SAHAY के जरिये मिलेगी नक्सल प्रभावित क्षेत्र के युवाओं को नई पहचान।