चाईबासा के सदर अस्पताल में अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस कार्यक्रम का आयोजन कर किया गया नर्सों को प्रेरित ।


चिन्मय दत्ता,
 प्रत्येक वर्ष 12 मई को विश्व की प्रथम सिस्टर के जन्मदिन की वर्षगांठ के तौर पर मनाया जाता है। इसकी शुरुआत भारतवर्ष में सन 1973 में परिवार एवं कल्याण विभाग के द्वारा की गयी थी।  इस दिन विशेष रूप से नर्सों के द्वारा किए गए साहस और सराहनीय कार्यों को सम्मानित किया जाता है।

अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस के इस अवसर पर पश्चिमी सिंहभूम जिला उपायुक्त अनन्य मित्तल, मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डॉ ओम प्रकाश गुप्ता, आर.सी.एच.ओ डॉ सुंदर मोहन सामढ़, जिला सर्विलांस पदाधिकारी डॉ संजय कुजूर, जिला मलेरिया पदाधिकारी सहित नर्स/ए.एन.एम की उपस्थिति में सदर अस्पताल, चाईबासा स्थित नर्सिंग कौशल कॉलेज के सभागार में अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस के अवसर पर कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए विश्व की पहली नर्स के सम्मान से सम्मानित सिस्टर फ्लोरेंस नाइटिंगेल के फोटो पर पुष्प अर्पित करते हुए उनके द्वारा निःस्वार्थ भाव से किए गए मानव सेवा को याद किया गया।

 मौके पर उपायुक्त के द्वारा उपस्थित नर्स/ए.एन.एम को सिस्टर फ्लोरेंस नाइटिंगेल के द्वारा दिखाए गए मार्गों का अनुसरण करने के लिये प्रेरित करते हुए सभी को अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस की बधाई दी गई।

 

Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

पश्चिमी सिंहभूम चाईबासा जिला में नये डीसी ने पद संभालते हुए कहा-जिले के सभी लोगों को सशक्त करना मेरी प्राथमिकता