यू.एन.आई.को लेकर "सेव यू.एन.आई मूवमेंट" ने लिये कई अहम फैसले

 समत कुमार, वरिष्ठ पत्रकार। 

नयी दिल्ली,17 अप्रैल 2021(एजेंसी)। देश की पुरानी समाचार एजेंसी यूनाइटेड न्यूज ऑफ इंडिया(यू.एन. आई.) के अस्तित्व की रक्षा के लिए संघर्षरत "सेव यू.एन.आई मूवमेंट" ने कई अहम फैसले लिए हैं।  

इस बारे में कोर कमेटी के सदस्य एवं सुप्रीम कोर्ट के वकील संतोष कुमार ने आज यह जानकारी देते हुए बताया कि बैठक में यू.एन. आई.बोर्ड में बदलाव का स्वागत करने के साथ इसे फिर से खड़ा करने के लिए हर संभव कोशिश करने का संकल्प दोहराया गया।  

संतोष कुमार ने कहा कि इस बैठक से पहले बोर्ड के नए निदेशकों से मूवमेंट के साथियों ने चर्चा की और सभी तथ्यों को सामने रखा, अब निदेशक मंडल के सदस्यों के रचनात्मक पहल की जरुरत है। उन्होंने कहा है कि नया प्रबंधन विवादित मसलों को सुलझाने एवं संस्थान की तरक्की के लिए काम करेगा, ऐसी उम्मीद की जाती है। 

उल्लेखनीय है,कि वर्ष 2012 में एक विवादित व्यक्ति को बोर्ड में लाये जाने के बाद से ही यू.एन.आई. की बर्बादी शुरू हो गयी। इसके चल अचल सम्पतियों की बिक्री का धंधा शुरू हो गया। कर्मचारियों का विभिन्न मदों का बकाया सौ करोड़ रुपये से अधिक हो चुका है। 

उन्होंने कहा कि प्रबंधन के खिलाफ देश के विभिन्न न्यायालयों में कई मामले लंबित है।कंपनी के आय के प्रमुख स्रोत प्रसार भारती ने सेवाएं लेनी बंद कर दी है। प्रमुख समाचार पत्रों का भी यही हाल है। कर्मचारियों का वेतन आदि 52 महीने का बकाया है। 10 से12 करोड़ रुपये पी.एफ.मद में जमा कराना है। अन्य कई देनदारियां भी करोड़ो में है।

 

Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

SAHAY के जरिये मिलेगी नक्सल प्रभावित क्षेत्र के युवाओं को नई पहचान।