48 साल के हुए मास्टर-ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर


क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले भारतीय  क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर आज 48 साल के हो गए। उन्होंने सिर्फ भारतीय क्रिकेट में ही नहीं बल्कि पूरे क्रिकेट जगत में अपनी एक जगह बना ली है जहाँ पहुंचने के लिए कई खिलाड़ी ख्वाब देखते हैं। 

24 अप्रैल 1973 को मुंबई में जन्मे इस लड़के के बारे में शायद ही किसी ने सोचा होगा कि ये आगे जाकर पूरे क्रिकेट जगत पर राज करेगा। राजापुर के मराठी ब्राह्मण परिवार में जन्मे सचिन का नाम उनके पिता रमेश तेंदुलकर ने अपने चहेते संगीतकार सचिन देव बर्मन के नाम पर रखा था। सचिन के पिता मराठी स्कूल में शिक्षक थे। उनके बड़े भाई अजीत तेंदुलकर ने उन्हें क्रिकेट खेलने के लिये प्रोत्साहित किया था।


सन् 1989 में अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण के पश्चात् उन्होंने बल्लेबाजी में भी कई कीर्तिमान स्थापित किए हैं। उन्होंने टेस्ट व एक दिवसीय क्रिकेट, दोनों में सर्वाधिक शतक अर्जित किये हैं। वे टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज़ हैं। इसके साथ ही टेस्ट क्रिकेट में 14000  से अधिक रन बनाने वाले वह विश्व के एकमात्र खिलाड़ी हैं। 
एक दिवसीय मैचों में भी उन्हें कुल सर्वाधिक रन बनाने का कीर्तिमान प्राप्त है। उन्होंने अपना पहला प्रथम श्रेणी क्रिकेट मैच मुम्बई के लिये 14 वर्ष की आयु में खेला था। उनके अन्तर्राष्ट्रीय खेल जीवन की शुरुआत 1998 में पाकिस्तान के विरुद्ध कराची से हुई। वह 100 शतक लगाने वाले विश्व के इकलौते खिलाडी हैं। उन्होंने क्रिकेट जगत में कई कीर्तिमान बनाये और कई व्यक्तिगत अवॉर्ड्स भी जीते। 


भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित होने वाले वह सर्वप्रथम खिलाड़ी और सबसे कम उम्र के व्यक्ति हैं। राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित होने वाले पहले क्रिकेट खिलाड़ी हैं। सन् 2008 में वे पद्म विभूषण  से भी पुरस्कृत किये जा चुके है।



सचिन क्रिकेट जगत के सर्वाधिक प्रायोजित खिलाड़ी हैं और विश्व भर में उनके अनेक प्रशंसक हैं। उनके प्रशंसक उन्हें प्यार से भिन्न-भिन्न नामों से पुकारते हैं जिनमें सबसे प्रचलित लिटिल मास्टर व मास्टर ब्लास्टर है। क्रिकेट के अलावा वह अपने ही नाम के एक सफल रेस्टोरेंट के स्वामी  भी हैं। 
सचिन तेंदुलकर पर एक बायोपिक फिल्म 'सचिन : ए बिलियन ड्रीम्स बनाई जा चुकी है। इस फ़िल्म का टीज़र भी बहुत रोमांचक हैं। टीजर में सचिन को उन्हीं की कहानी सुनाते हुए देखेंगे जो एक शरारती बच्चे से एक हीरो बनकर उभरता है। ख़ुद सचिन तेंदुलकर का भी ये मानना है कि क्रिकेट खेलने से अधिक चुनौतीपूर्ण अभिनय करना है। सचिन – ए बिलियन ड्रीम्स’ का निर्माण श्रीकांत भासी और रवि भगचंदका ने किया है और इसका निर्देशन जेम्स अर्सकिन के द्वारा किया गया है।

भारत के इस रत्न को जन्मदिन मुबारक। 

Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

दिल्ली के लिये हरियाणा से पानी की कमी को लेकर आप नेताओं ने किया, दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के घर का घेराव।