भारतीय रेल के उन्नत वेबसाइट और ऐप देंगे अब रेल यात्रियों को ज्यादा सुविधाएं

 


भारतीय रेलवे ने ऑनलाइन बुकिंग के लिए इस्‍तेमाल की जाने वाली अपनी ई-टिकटिंग वेबसाइट www.irctc.co.in और आईआरसीटीसी  रेल कनेक्ट मोबाइल ऐप का नवीनीकरण किया है, जिसके तहत उपयोगकर्ता के लॉगिन के साथ भोजन, टिकट बुकिंग, रिटायरिंग रूम और होटल बुकिंग की सुविधा को पहली बार एकीकृत किया गया है।

इसमें रेलवे ने अन्य सुविधाओं को भी शामिल किया है जिनमें  इस तरह से यात्रियों को एक ही स्‍थान पर यात्रा से संबधित सभी सुविधाएं उपलब्‍ध कराने का प्रयास किया गया है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के माध्‍यम से यात्रियों को स्‍टेशन में प्रवेश करने के साथ सभी तरह की सूचनाएं दिए जाने की व्‍यवस्‍था की जाएगी। इससे उन्‍हें यात्रा के पहले की परेशानियों से बचने तथा टिकट बुक करने में मदद मिलेगी।

वेबसाइट और ऐप के जरिए यात्रियों को टिकट रिफंड की सारी जानकारी भी उनके लॉगिन खाते में एक जगह मिल सकेगी।

नियमित और मनपसंद यात्रा के लिए सभी आवश्‍यक जानकारियां देकर टिकट बुक की जा सकती है। रेलगाड़ियों की जानकारी और चयन की प्रक्रिया को सरल और सुगम बनाया गया है। रेलगाड़ियां और उनमें उपलब्‍ध श्रेणियों के किराए को एक ही पेज पर दिया गया है। पेज स्‍क्रॉल करके मनपसंद रेलगाड़ी और श्रेणी की टिकट बुक की जा सकती है। इससे पहले यह सुविधा नहीं थी और हर रेलगाड़ी के लिए अलग से उसकी जानकारी लेनी पड़ती थी।

कैशे प्रणाली से वेट लिस्ट टिकटों के कंफर्म होने की मिलेगी जानकारी

वेबसाइट के साथ एक ‘कैशे प्रणाली’ की शुरुआत की गई है जिसके माध्‍यम से वेट लिस्‍ट टिकटों के कन्‍फर्म होने की जानकारी मिलेगी। इससे वेटलिस्‍ट टिकटों के कन्फर्म हो जाने की जानकारी उपलब्‍ध कराने में देरी नहीं होगी। इससे पहले यह सुविधा नहीं थी। वेबपेज पर आरक्षित टिकटों की अन्‍य दिनों में उपलब्‍धता की जानकारी स्‍वतः आ जाएगी।

कंम्‍यूटर के बारे में कम जानकारी रखने वालों को भी बुकिंग प्रक्रिया आसानी से समझ में आ सकेगी जिससे उन्‍हें आवश्‍यक जानकारियां हासिल करने के लिए वेबसाइट पर इधर-उधर भटकने में समय बर्बाद नहीं करना पड़ेगा।

बुक की गई यात्रा का विवरण भुगतान वाले पेज पर अपने आप दिखेगा ताकि उपयोगकर्ता इसमें किसी तरह की गलती को तुरंत ठीक कर सके। पीआरएस केन्‍द्र जाकर भी बुकिंग में हुई गलती ठीक कराई जा सकती है।

वेबसाइट में साइबर सुरक्षा के लिए भी पर्याप्‍त व्‍यवस्‍था की गई है।

वर्तमान में आईआरसीटीसी की इस ई-टिकटिंग वेबसाइट के 6 करोड़ से ज्‍यादा उपयोगकर्ता हैं। वेबसाइट के जरिए प्रतिदिन 8 लाख से अधिक टिकट बुक किए जाते हैं। बुक किए जाने वाले कुल आरक्षित रेल टिकटों का 83 प्रतिशत इस वेबसाइट के जरिए बुक किया जा रहा है।

 

Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

दिल्ली के लिये हरियाणा से पानी की कमी को लेकर आप नेताओं ने किया, दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के घर का घेराव।