दूरदर्शन एवं आकाशवाणी के डिजिटल चैनलों ने वर्ष 2020 में की 100 प्रतिशत बढ़ोत्तरी, भारतीय के बाद दूसरे नंबर पर पाकिस्तानी ऑडियंस शामिल

 

 प्रसार भारती के डीडी और आकाशवाणी के डिजिटल चैनलों ने वर्ष 2020 में 100 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि दर्ज की, जिसमें  एक अरब से अधिक डिजिटल व्यूज  और 6 अरब से अधिक डिजिटल वॉच मिनट दर्ज किए गए। सबसे खास बात यह रही कि इस रिकॉर्ड वृद्धि में भारत के घरेलू दर्शकों के बाद डीडी और आकाशवाणी में दिए जाने वाले कार्यक्रमों के दूसरे सबसे ज्यादा डिजिटल ऑडियंस पाकिस्तान में थे। इसी तरह अमेरिका में भी प्रसार भारती के अधिकांश व्यूज रहे।

2020 के दौरान सबसे लोकप्रिय डिजिटल वीडियो में स्कूली छात्रों के साथ प्रधानमंत्री मोदी की बातचीतगणतंत्र दिवस परेड 2020 और डीडी नेशनल आर्काइव्ससिरका 1970 से शकुन्‍तला देवी का एक दुर्लभ वीडियो है।

जबकि डीडी स्पोर्ट्स और आकाशवाणी स्पोर्ट्स के लाइव कमेंट्री के कारण दर्शकों व श्रोताओं का एक बड़ा वर्ग डिजिटल रूप से जुड़ गया हैप्रसार भारती अभिलेखागार और डीडी किसान में स्थिर डिजिटल अदाकार रहे हैं जो शीर्ष 10 में है। बीते वर्ष 2020 के दौरानन्यूज़ऑनएयर ऐप ने इस प्‍लेटफॉर्म के साथ 25 लाख (2.5 मिलियन) से अधिक उपयोगकर्ताओं को जोड़ा जिससे 30 करोड़ (300 मिलियन) से अधिक विचारों को लाइव रेडियो स्ट्रीमिंग के साथ पंजीकृत किया गयाजिसमें 200 से अधिक वर्ग सबसे लोकप्रिय रहे।

डीडी नेशनल और डीडी न्यूज का साथ देते हुए प्रसार भारती के 10 शीर्ष डिजिटल चैनलों मेंडीडी सहयाद्री से मराठी न्‍यूजडीडी चांदना पर कन्नड़ प्रोग्रामिंगडीडी बांग्ला से बांग्ला समाचार और डीडी सप्तगिरि पर तेलुगू प्रोग्रामिंग शामिल हैं।

पूर्वोत्तर से खबरों के लिए पर्याप्त डिजिटल दर्शकों को देखते हुएआकाशवाणी समाचार की पूर्वोत्तर सेवा भी शीर्ष 10 में हैऔर संयोग से 100 हजार ग्राहकों के डिजिटल माइलस्‍टोन को पार कर चुकी है।

सभी संस्कृत भाषा सामग्री के लिए एक समर्पित प्रसार भारती यूट्यूब चैनल 2020 में शुरू किया गयाजिसमें डीडी-आकाशवाणी के राष्ट्रव्यापी नेटवर्क की रेडियो और टीवी में प्रस्‍तुत संस्‍कृत भाषा सामग्री को दर्शकों तक आसान पहुंच के लिए अपलोड किया गया है।

 

 

Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

SAHAY के जरिये मिलेगी नक्सल प्रभावित क्षेत्र के युवाओं को नई पहचान।