जनजातीय उत्पादों के प्रदर्शन के लिये है ट्राइब्स इंडिया ई-मार्केटप्लेस

ट्राइब्स इंडिया ई—मार्केटप्लेस (www.market.tribesindia.com) देश भर के जनजातीय उद्यमों की उपज एवं हस्तशिल्प कलाकृतियों का प्रदर्शन करने वाली और उन्हें अपने उत्पादों को सीधे बाजार में लाने में मदद करने वाली पहल, जनजातीय, वाणिज्य के डिजिटलीकरण की दिशा में एक बड़ा कदम है। 2 अक्टूबर 2020 को ट्राइब्स इंडिया ई—मार्केटप्लेस (www.market.tribesindia.com) के ऑनलाइन उदघाटन किया गया। इस अवसर पर केन्द्रीय जनजातीय कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा ने ट्राईफेड की कई अन्य पहलों की शुरूआत की जिनमें ऋषिकेश में ट्राइब्स इंडिया के 123 वें और कोलकाता में 124 वें केन्द्र का उद्घाटन, झारखंड राज्य और छत्तीसगढ़ राज्य के नए जनजातीय उत्पादों को शामिल करना और अमेजन के साथ उनके विक्रेता फ्लेक्स कार्यक्रम में ट्राईफेड/ ट्राइब्स इंडिया की साझेदारी शामिल हैं।


ई-प्लेटफॉर्म, पूरे भारत के जनजातीय उत्पादों (उत्पाद एवं हस्तशिल्प) को एक ही जगह पर प्रदर्शित करने वाला एक अत्याधुनिक ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म है जिसे वेब तथा मोबाइल (एंड्रॉइड व आईओएस) पर दोनों तरह के ग्राहकों और पंजीकृत जनजातीय विक्रेताओं द्वारा पहुंच बनाया जा सकता है।


ट्राइब्स इंडिया ई-मार्केटप्लेस एक महत्वाकांक्षी पहल है, जिसके माध्यम से ट्राईफेड का लक्ष्य देशभर में विभिन्न हस्तकला, प्राकृतिक खाद्य उत्पादों की खरीद के लिए 5 लाख जनजातीय उत्पादकों को शामिल करना है और आपके समक्ष सर्वोच्च गुणवत्ता वाले जनजातीय उत्पादकों को प्रस्तुत करना है। आपूर्तिकर्ताओं में व्यक्तिगत जनजातीय कारीगर, जनजातीय स्वयं सहायता समूह (एसएचजी), जनजातीय समुदाय के साथ काम करने वाले संगठन/एजेंसियां/गैर-सरकारी संगठन आदि शामिल हैं।


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

दिल्ली के लिये हरियाणा से पानी की कमी को लेकर आप नेताओं ने किया, दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के घर का घेराव।