कटरा- दिल्ली एक्सप्रेस सड़क कॉरिडोर बनने से केवल साढ़े 6 घंटे में पहुंच सकेंगे कटरा से दिल्ली

आने वाले दो वर्षों में कटरा से दिल्ली का सड़क मार्ग छोटा होने वाला है।  दरअसल, कटरा-दिल्ली एक्सप्रेस सड़क कॉरिडोर का काम शुरू हो गया है, जो अपनी तरह का एक विशेष सड़क कॉरिडोर होगा।  यह सड़क वर्ष 2023 तक तैयार हो जाएगा। इस मार्ग के बन जाने के बाद कटरा से दिल्ली की यात्रा का समय घटकर लगभग साढ़े छह घंटे का और जम्मू से दिल्ली का लगभग छह घंटे हो जाएगा।


 इस बारे में केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने यहां बताया कि इस एक्सप्रेस सड़क कॉरिडोर (गलियारा) के तैयार होने के बाद, लोग रेल या हवाई मार्ग से यात्रा करने के बजाय सड़क मार्ग से दिल्ली-जम्मू-कटरा आना-जाना पसंद करेंगे। उन्होंने कहा कि इस सड़क गलियारे की पहचान यह है कि यह कटरा और अमृतसर के पवित्र शहरों को भी जोड़ेगा, और साथ ही इन दोनों गंतव्यों के बीच कुछ अन्य प्रमुख महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों को भी जोड़ने का काम करेगा।


डॉ. जितेंद्र सिंह ने आगे बताया कि मैसर्स फीडबैक कंसल्टेंट्स लिमिटेड द्वारा सर्वेक्षण पूरा होने के बाद, भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया लगभग पूरी हो गई है और जमीनी स्तर पर काम भी शुरू हो गया है। उन्होंने कहा कि इस परियोजना पर लगभग 35 हजार करोड़ रुपये से अधिक की लागत का अनुमान है। जिन महत्वपूर्ण शहरों से यह एक्सप्रेस वे कॉरिडोर निकलेगा,इनमें जम्मू-कश्मीर का जम्मू और कठुआ तथा पंजाब के जालंधर, अमृतसर, कपूरथला और लुधियाना जैसे शहर होंगे। तीन वर्ष की अवधि के भीतर इसे पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।  


इस बीच, पठानकोट और जम्मू के बीच के राष्ट्रीय राजमार्ग का चौड़ीकरण भी किया जा रहा है, इसे 4-लेन से बढ़ाकर 6-लेन का करने की योजना है जिससे जम्मू, कठुआ और पठानकोट के बीच आवागमन सुगम होने से इन इलाके के लोगों को भी काफी लाभ मिलेगा।


 


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

झारखंड हमेशा से वीरों और शहीदों की भूमि रही है- हेमंत सोरेन, मुख्यमंत्री झारखंड

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।