जिला विधिक सेवा प्राधिकार सरायकेला के प्रयासों से मिल रही है जरूरतमंदों को मदद

लॉकडाउन की पाबंदियों के बीच ईचागढ़ प्रखंड के गांव आताड़ के निवासी वन्दना कैवर्त और उनके पति समीर डोमन कैवर्त मदद की आस में तड़प रहे थे कि किसी ने उनकी आवाज जिला विधिक सेवा प्राधिकार सरायकेला के PLV कार्तिक गोप तक पहुंचा दी। फिर क्या था, कार्तिक गोप जरूरत को देखते हुए इस दंपति के पास मदद के लिये पहुंचे।


दरअसल वंदना कैवर्त डिलिवरी पेशेंट थी जिन्हें ईचागढ़ अस्पताल से एम जी एम अस्पताल जाने के लिये बोला गया। मुसीबत थी कि लॉकडाउन में गाड़ी भी नहीं मिल रही थी और न ही दंपत्ति के पास वहां तक जाने के पैसे थे। ऐसे में PLV कार्तिक गोप ने उनकी मदद करते हुए जनसंवाद को फोन करते हुए तुरंत एंबुलेंस बुलवाकर डिलिवरी पेशेंट को एम जी एम अस्पताल टाटा भिजवाया।


गौरतलब है कि विभिन्न गांवों के PLV को निर्देश दिया गया है कि वे अपने आस-पास रहने वाले जरूरतमंद लोगों की पहचान कर इसकी सूचना कार्यालय को दें, साथ ही लोगों से भी अपील की है कि लॉकडाउन का पालन करते हुए जो भी जरूरतमंद हैं, वे PLV से संपर्क करें।


 


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

पश्चिमी सिंहभूम चाईबासा जिला में नये डीसी ने पद संभालते हुए कहा-जिले के सभी लोगों को सशक्त करना मेरी प्राथमिकता