सरायकेला खरसांवा जिला के इस गांव की गरीब महिलाओं ने की सरकार से मिलने वाली मदद की गुहार

अभी जब देश में हर कोना कोरोना को हराने के लिये सुनसान नजर आ रहा है, और लोग अपने घरों में बंद हैं, तब झारखंड के सरायकेला खरसांवा जिला स्थित कृष्णपुर पंचायत के खमारडीह गांव की गरीब महिलाएं अपने बच्चों के साथ घर से बाहर इसलिये निकल कर आ रही है, क्योंकि विपरीत हालात में सरकार द्वारा दी जा रही सुविधाएं इन तक नहीं पहुंच रही हैं। इनके पास राशन कार्ड नहीं है। मगर इनका कहना है कि मजदूरी नहीं कर पाने की मजबूरी में सरकार से उसी मदद की आस है, जिसे वो दूसरे लोगों तक पहुंचा रही है।



रोजाना मजदूरी कर पेट पालने वाले मजदूरों के परिवारों की महिलाएं अपने छोटे-छोटे बच्चों का हवाला देते हुए कहती हैं, कि इनके पास इतने अनाज नहीं हैं, कि वह अपने बच्चों को भर पेट खिला सकें। घर के बाहर लॉकडाउन की सख्ती है तो घर में अनाज के लाले हैं। ऐसे में इन महिलाओं की सारी उम्मीद सरकार से है, और अपनी इस बात को उन तक पहुंचाने के लिये यह अपने बच्चों सहित बाहर निकली हैं। इन्हें भरोसा है कि उनकी यह बात सरकार तक पहुंचेगी और सरकार उन तक भी अपनी मदद पहुंचाएगी।


Popular posts from this blog

झारखंड हमेशा से वीरों और शहीदों की भूमि रही है- हेमंत सोरेन, मुख्यमंत्री झारखंड

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।