60 वर्षीय वृद्ध को आधार कार्ड में बना दिया 25 वर्षीय युवा..नहीं मिल रही पेंशन की सुविधा


झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिला के अन्तर्गत पोटका प्रखंड के हाथीबिंन्धा ग्राम पंचायत में आधार कार्ड में गड़बड़ी के चलते कई लोगों को सरकारी सुविधाओं से वंचित रहना पड़ रहा है। इन सुविधाओं में वृद्धा पेंशन एवं विधवा पेंशन मुख्य रूप से शामिल हैं। जिनकी उम्र 60 वर्ष से ऊपर हो चुकी है, उनके आधार कार्ड में उम्र 25 साल है, जिसके चलते वह लाभुक में शामिल नहीं हैं। अपने बुढ़ापे की उम्र में जी रहे सीताराम भी इसी गड़बड़ी के शिकार हैं। उम्र 60 वर्ष से अधिक है मगर पेंशन के लाभ के लिये हर सरकारी महकमे में भटक रहे हैं, क्योंकि आधार में इनकी उम्र 25 वर्ष है, और उसके अनुसार इन्हें पेंशन का लाभ नहीं मिल सकता है।



इस बारे में हाथीबिंधा ग्राम पंचायत की मुखिया कनक सरदार कहती हैं कि उन्होंने बहुत कोशिश की लेकिन आधार में गड़बड़ी को ठीक नहीं किया जा सका है, और सीताराम वृद्धा पेंशन से वंचित हैं। कनक ने कहा कि क्षेत्र में इस समस्या को दूर करने के लिये कई बार अधिकारियों से कह चुकी हैं, मगर इस पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। ऐसे में सवाल ये उठता है कि सीताराम जैसे बुजुर्गों को आधार कार्ड में उम्र की गड़बड़ी करने वालों का खामियाजा कब तक भुगतना पड़ेगा, जबकि सरकारी योजनाओं का उद्येश्य असल लाभुकों तक राहत पहुंचाना है।


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

दिल्ली के लिये हरियाणा से पानी की कमी को लेकर आप नेताओं ने किया, दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के घर का घेराव।