23 फरवरी 1969 से जुड़ी है इन दो नायिकाओं के जन्म और मृत्यु की दास्तान


यूं तो फिल्मी दुनियां से जुड़ी एक से बढ़कर एक खूबसूरत अभिनेत्री को हम पर्दे पर देखते रहे हैं, और उनके कायल भी होते हैं, मगर एक अदाकारा ऐसी रही हैं, जिसकी बेपनाह खूबसूरती को आज भी दुनियां हमेशा याद करती है।   


भारतीय हिन्दी फिल्मों की अभिनेत्री मधुबाला के अभिनय में एक आदर्श भारतीय नारी को देखा जा सकता है। मधुबाला का जन्म नई दिल्ली में 14 फरवरी 1933 को हुआ। इनका वास्तविक नाम मुमताज बेगम जहां देहलवी था। हिन्दी फिल्मों के समीक्षक मधुबाला के अभिनय काल को स्वर्ण युग की संज्ञा से देते हैं।


     बॉलीवुड में इनका प्रवेश बेबी मुमताज के नाम से हुआ। 1942 में इनकी पहली फिल्म बसंत आई। अभिनेत्री देविका रानी ने इनके अभिनय से प्रभावित होकर इनके नाम मुमताज को मधुबाला में बदल दिया। इन्हें मुख्य भूमिका निभाने का पहला अवसर 1947 की फिल्म नील कमल से मिला। इस फिल्म में इन्होंने राज कपूर के साथ अभिनय का ऐसा जलवा बिखेरा की यह सिनेमा की सौन्दर्य देवी कहलाने लगी।


     सिनेमा की इस सौन्दर्य देवी ने मुम्बई में 23 फरवरी 1969 को दुनिया को अलविदा कह दिया और इसी दिन मुम्बई में ही मिरज के शाही पटवर्धन परिवार में हिन्दी फिल्मों की अभिनेत्री भाग्यश्री का जन्म हुआ। यह वजह रही कि मधुबाला और भाग्यश्री का संबंध 23 फरवरी 1969 से हो गया। भाग्यश्री का वास्तविक नाम श्रीमंत राजकुमारी भाग्यश्री राजे पटवर्धन है।


दूरदर्शन पर प्रसारित टेली सीरियल कच्ची धूप में पहली बार दर्शकों ने इन्हें देखा। 1989 में इनकी पहली फिल्म मैंने प्यार किया आई। इस फिल्म को अपार सफलता मिली। इन्होंने कुल 15 फिल्मों में अभिनय किया, जिनमें 1992 की पायल, कैद में है बुलबुल, एवं  त्यागी प्रमुख हैं।  भाग्यश्री , 2001 में हेलो गर्ल्स में दिखाई दी।


पाठक मंच के साप्ताहिक कार्यक्रम इन्द्रधनुष की 706वीं कड़ी में उपरोक्त जानकारी दी गई।


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

झारखंड हमेशा से वीरों और शहीदों की भूमि रही है- हेमंत सोरेन, मुख्यमंत्री झारखंड

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।