उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले में रोजगारउन्मुख कौशल विकास प्रशिक्षण प्रदान करने के लिये आरईसी कर रहा है मदद

 भारत सरकार की नवरत्न एंटरप्राइज आरईसी लिमिटेड ने अपने सीएसआर शाखा, आरईसी फाउंडेशन के माध्यम से , उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले में आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिये पिछले 18 महीने की अवधि में सीएसआर पहल के तहत 1000 लोगों को नौकरी-उन्मुख कौशल विकास प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए मेट्रिक्स सोसाइटी फॉर सोशल सर्विस (एमएएसएस) को 4 1.54 करोड़ की वित्तीय सहायता प्रदान की है।


परियोजना का मुख्य उद्देश्य गरीबों और वंचित युवाओं को रोजगार और व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान करके रोजगार में वृद्धि करना है।


इस संबंध में समझौता ज्ञापन (एमओए) 16 जनवरी, 2020 को नई दिल्ली में आरईसी फाउंडेशन और एमएएसएस के बीच निष्पादित किया गया था।


दरअसल, आरईसी लिमिटेड (पूर्व में ग्रामीण विद्युतीकरण निगम लिमिटेड) एक नवरत्न NBFC और इन्फ्रास्ट्रक्चर फाइनेंस कंपनी (IFC) है, जो पूरे भारत में पावर सेक्टर के वित्तपोषण और विकास पर ध्यान केंद्रित करती है। यह राज्य बिजली बोर्डों, राज्य सरकारों, केंद्रीय / राज्य बिजली उपयोगिताओं, स्वतंत्र बिजली उत्पादकों, ग्रामीण बिजली सहकारी समितियों और निजी क्षेत्र की उपयोगिताओं को वित्तीय सहायता प्रदान करता है।


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

दिल्ली के लिये हरियाणा से पानी की कमी को लेकर आप नेताओं ने किया, दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के घर का घेराव।