विचारों के बड़े केन्द्र हैं विश्वविद्यालय, लेकिन वे सामाजिक परिवर्तनों से अछूते नहीं हैं वे समाज का ही हिस्सा हैं: राष्ट्रपति

विश्वविद्यालय विचारों के बड़े केंद्र हैं, लेकिन वे सामाजिक परिवर्तनों से अछूते नहीं हैं। वे समाज का ही हिस्सा हैं। अकादमिक समुदाय को उन क्षेत्रों में अनुसंधान करना चाहिए जो न केवल ज्ञान का नया आधार बनाते हैं बल्कि एक ऐसा ज्ञान आधार भी बनाते हैं जो मानव समाज के स्थायित्व में बड़ी भूमिका निभाता है। यह बात राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने आज (8 दिसंबर, 2019) को भुवनेश्वर में उत्कल विश्वविद्यालय के प्लेटिनम जंयती समारोह के समापन सत्र को संबोधित करते हुए कही। 


राष्ट्रपति ने कहा कि छात्रों और शिक्षकों को समाज के वंचित वर्गों के सशक्तिकरण के प्रति संवेदनशील होना चाहिए। पर्यावरण, स्वास्थ्य और शिक्षा जैसे विषयों को गंभीरता से लिया जाना चाहिए। बहु-विषयक संकाय से संपन्न उत्कल जैसे विश्वविद्यालय इस काम को ज्यादा बेहतर तरीके से कर सकते हैं।


उन्होंने  कहा कि प्लैटिनम जयंती जैसा अवसर एक मील का पत्थर होता है। एक लंबी यात्रा के दौरान, जब हम इस पर पहुंचते हैं तो थोड़ा रुक कर पीछे मुड़क देखते हैं। यह उपलब्धियों के साथ-साथ उन क्षेत्रों पर भी नजर डालने का समय होता है जहां और ज्यादा सुधारों की गुंजाइश होती है। उन्होंने कहा कि पूरे उत्कल समुदाय के लिए, यह विश्वविद्यालय के संस्थापकों की भविष्य की सोच के प्रति खुद को समर्पित करने का समय है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि विश्वविद्यालय राष्ट्रीय और वैश्विक स्तर पर उच्च शिक्षा और अनुसंधान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए प्रतिबद्ध रहेगा।


 



Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

दिल्ली के लिये हरियाणा से पानी की कमी को लेकर आप नेताओं ने किया, दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के घर का घेराव।