प्याज के आयात से जल्दी ही मिलेगा लोगों को इसका स्वाद

प्याज के दाम देश में लोगों को बिना परिस्थिति के रूलाने का काम कर रहे हैं। ऐसे में केंद्र सरकार ने 12,660 मीट्रिक टन अतिरिक्त प्याज के आयात के लिए अनुबंध किये हैं। आयातित प्याज की भारत में आवक 27 दिसंबर, 2019 से शुरू हो जाएगी। इस अतिरिक्त मात्रा से आयातित प्याज की कुल मात्रा लगभग 30,000 मीट्रिक टन हो गई है। उपभोक्ता मामलों के विभाग ने भी 12 दिसंबर को एमएमटीसी को 15,000 मीट्रिक टन अतिरिक्त प्याज (5000-5000 मीट्रिक टन की तीन नई निविदाएं) के आयात के लिए नई निविदाएं जारी करने का निर्देश दिया है।          


इससे पहले, 9 दिसंबर, 2019 को केंद्र सरकार ने खुदरा विक्रेताओं की स्टॉक रखने की सीमा को 5 मीट्रिक टन से संशोधित करके 2 मीट्रिक टन कर दिया था। यह स्टॉक सीमा केवल खुदरा विक्रेताओं के लिए संशोधित की गई थी। जबकि थोक विक्रेताओं के लिए 25 मीट्रिक टन स्टॉक सीमा में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है। आयातित प्याज के लिए आयातकों को स्टॉक सीमाओं से मुक्त रखा गया है।


केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री श्री राम विलास पासवान ने सभी मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर उनसे प्याज की जमाखोरी रोकने की कार्रवाई शुरू करने के लिए कहा है ताकि बाजारों में आपूर्ति सुनिश्चित हो और स्टॉक रखने की सीमा को सख्ती से लागू किया जाए।   


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

दिल्ली के लिये हरियाणा से पानी की कमी को लेकर आप नेताओं ने किया, दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के घर का घेराव।