जीवन की जटिलता


तड़पन है, छटपटाहट है,


धूप-छाँह की तरह क्षण-क्षण,


वेष बदलती है,


अचेतन मन में।


अँधेरी गहरी सुरंगें, घाटियों,


नाटकीय ढ़ंग से जुड़ी है।


रहस्यमयी लोक में,


अँधेरे में सीढ़ियाँ हैं,


अथाह काला जल है।


निचली सीढ़ी पानी में डूबी है,


मस्तिष्क अबूझ लगता है।


नई रंगों और नई रसों की


खोज में, यह सोचकर,


कोशिश करती कई,


कि कोशिश करने वालों की,


कभी हार नहीं होती


बेचैन मन जीवन की


जटिलता रूपी कुएँ में समाता गया,


समाता गया !


 


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

SAHAY के जरिये मिलेगी नक्सल प्रभावित क्षेत्र के युवाओं को नई पहचान।