गुड गवर्नेंस इंडेक्स में चौथे स्थान पर है छत्तीसगढ़ 


 केन्द्र सरकार के कार्मिक मंत्रालय द्वारा जारी सुशासन सूचकांक (गुड गवर्नेंस इंडेक्स) में बड़े राज्यों की सूची में छत्तीसगढ़ को चौथा स्थान दिया गया है। यह सूचकांक राज्यों को सुशासन की कसौटी पर कसने के लिए जारी किया है, जिसमें छत्तीसगढ़ की स्थिति सुशासन के प्रदर्शन में काफी बेहतर है।


सुशासन दिवस पर जारी इस सूचकांक में मुख्यतौर पर 10 क्षेत्रों के हालात पर गौर किया गया है। इनमें कृषि और संबद्ध क्षेत्रवाणिज्य और उद्योगमानव संसाधन विकासजनस्वास्थसार्वजनिक ढांचा और सुविधाएंआर्थिक शासनसमाज कल्याण व विकासन्यायिक और लोक सुरक्षापर्यावरण और नागरिक केंद्रित शासन के क्षेत्र शामिल हैं। इन सभी 10 क्षेत्रों को 50 बिंदुओं के आधार पर मापा गया है। इस सूचकांक में छत्तीसगढ़ को 5.05 अंक दिये गए हैं।


गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ में किए जा रहे विकास कार्यों को राष्ट्रीय स्तर पर सराहना मिल रही है। हाल ही में प्रदेश को मनरेगा, आजीविका मिशन, आवास योजना और पीएमजीएसवाई में उत्कृष्ट कार्यों के लिए केंद्र सरकार की ओर से 22 पुरस्कार दिये गए हैं। वहीं इन विकास कार्यों से छत्तीसगढ़ तेजी से विकसित राज्यों की श्रेणी में शामिल हो गया है।


सुशासन सूचकांक का उद्देश्य सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में सुशासन की स्थिति की तुलना करने के लिए मात्रात्मक डाटा उपलब्ध करानाशासन में सुधार के लिए उचित रणनीति बनाने और लागू करने में उन्हें सक्षम बनाना और उनके यहां परिणाम उन्मुख दृष्टिकोण और प्रशासन की स्थापना करना है।


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

SAHAY के जरिये मिलेगी नक्सल प्रभावित क्षेत्र के युवाओं को नई पहचान।