आंगन का यौवन


कहाँ खो गया हरा भरा तेरा जोबन


फुर्र से उड़ गया आजकल


 हे आंगन तेरा यौवन


लौट आओ कि


तुम बिन सूना लगता मकान


 प्यारा सा घरौंदा टूट गया आजकल


 हे आंगन तेरा यौवन


हँसना बोलना नाचना


 सब मिलता था तेरे आँचल में।


 वक्त गुजरता गया


 आजकल हे आँगन तेरा यौवन।


 दूध के दांत गिरते देखा,


 कच्ची मिट्टी से पक्की बनते देखा,


 आजकल हे आँगन तेरा यौवन ढलते देखा ।।


Popular posts from this blog

झारखंड हमेशा से वीरों और शहीदों की भूमि रही है- हेमंत सोरेन, मुख्यमंत्री झारखंड

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।