भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह में शामिल होंगी ख्याति प्राप्त फिल्म निर्माताओं की 17 फिल्में

आईएफएफआई यानि भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह अपनी यात्रा की स्वर्ण जयंती मना रहा है और परंपरा के अनुसार पिछले मास्टर फ्रेम संस्करणों की तरह इस वर्ष भी ऐसे जाने-माने फिल्म निर्माताओं के एक वर्ग का सावधानीपूर्वक चयन किया गया है। 


जिनमें पेड्रो अल्मोडोवर, लव डियाज, जेवियर डोलन, डार्डेन ब्रदर्स, कोस्टा गावरस, वर्नर हर्जोग, हिरोकाजू कोरीदा, फतिह अकिन जैसे अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त फिल्म निर्माताओं की 17 फिल्में शामिल हैं। ये फ़िल्में हैं, रॉय एंडरसन की अबाउट एंडलेसनेस, कोस्टा गावरस की एडल्ट्स इन द रूमबी, फ्रेंकोइस ओज़ोन की बाय द ग्रेस ऑफ़ गॉड, सेमीह कपलानोग्लू की कमिटमेंट, नील्स आर्डन ओप्लेव की डैनियल, आर्टुरो रिपस्टीन की डेविल बिटविन द लेग्स, वर्नर हर्ज़ोग की फैमिली रोमांस एलएलसी, आईएफएफआई 2017 के लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार विजेता एटम एगोयान की गेस्ट ऑफ आनर, जेवियर डोलन की मैथियास एंड मैक्सिम, अग्निज्का हॉलैंड की मिस्टर जोन्स, पेड्रो अल्मोडोवार की पेन एंड ग्लोरी, फ़ातिह अकिन की गोल्डन ग्लोव, लव डियाज की द हाल्ट, हिरोकाजू कोरीडा की द ट्रूथ, जुआन जोस कैंपेनेला की द वीज़ल्स टेल और डार्डेन ब्रदर्स की यंग अहमद।


50वें आईएफएफआई में तुर्की के मशहूर फिल्म निर्माता सेमीह कपलानोग्लू की फिल्म कमिटमेंट का वर्ल्ड प्रीमियर होगा। यह फिल्म इस वर्ष तुर्की से ऑस्कर की प्रविष्टि थी। इस श्रेणी की अधिकतर फिल्मों का प्रीमियर फिल्म निर्माण पूरा होने के बाद भारत में पहली बार हो रहा है, जो आईएफएफआई के लिए गर्व की बात है। आईएफएफआई भारतीय उपमहाद्वीप से हर वर्ष फिल्म समारोह देखने के लिए पहुंचने वाले लोगों को गर्व से फिल्मों और उनके निर्माताओं की फिल्में दिखाता है, विशेष रूप से ऐसे लोग जो विश्व सिनेमा की एक झलक पाने का इंतजार करते हैं।


 भारत के 50वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह, 2019 में  76 देशों की 200 सर्वश्रेष्ठ फिल्में, 26 फीचर फिल्में और 15 गैर-फीचर फिल्में भारतीय पैनोरमा खंड में दिखाई जाएंगी। फिल्म समारोह के स्वर्ण जयंती संस्करण में 10,000 से अधिक लोगों और फिल्म प्रेमियों के भाग लेने की उम्मीद है। भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह (आईएफएफआई) दुनिया के सभी हिस्सों की फिल्म से जुड़ी नई और पुरानी प्रतिभाओं के लिए एक मंच है।



Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

झारखंड हमेशा से वीरों और शहीदों की भूमि रही है- हेमंत सोरेन, मुख्यमंत्री झारखंड

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।