केवल बदबू ही नहीं, रोजगार भी देता है कचरा


हम हर चीज जिसे बेकार समझकर फेंक देते हैं, गंदगी समझकर उससे दूर भागते हैं, दरअसल उन सारी चीजों की भी बहुत उपयोगिता है। यानि हमारे द्वारा प्रयोग में लायी गई वस्तु जो बाद में हमारे लिये बेकार हो जाती है, उसे रिसाइकिल कर दुबारा से हमारे लिये ही प्रयोग में लाया जाता है, तो कहना गलत नहीं होगा।


मतलब इस संसार में हर चीज हर बार उपयोगी है, चाहे वह कचरा ही क्यों न हो। कचरा जिसे अपने आस-पास देखकर हम अपनी नाक बंद कर लेते हैं, वह पुनः एक तकनीकी प्रक्रिया के बाद हमारे उपयोग में आता है। सड़क निर्माण, खेतों में खाद, रसोई गैस, इंधन, फ्यूल जैसे कई महत्वपूर्ण कार्यों में कचरे को संसाधन के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।



इसलिये कचरे को बेकार नहीं बल्कि संसाधन कहें तो ज्यादा सटिक होगा। या कह सकते हैं कि इसका प्रबंधन बहुत मायने रखता है। कचरा प्रबंधन के क्षेत्र में काम कर रहे पाथेय के संस्थापक गिरिजेश चौबे बताते हैं कि कचरा हमारे लिये संसाधन है जिसने समाज में बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार दिया है, इसलिये यह बेकार नहीं बल्कि सोने के समान है।   


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

दिल्ली के लिये हरियाणा से पानी की कमी को लेकर आप नेताओं ने किया, दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के घर का घेराव।