कभी इन राज्यों में माफिया राज खत्म करने में इस अधिकारी ने निभाई थी महत्वपूर्ण भूमिका, अब आप में हुए शामिल


बिहार और झारखंड में माफिया राज से लोहा लेकर अलग पहचान बनाने वाले पूर्व आइपीएस अधिकारी डा. अजोय कुमार बृहस्पतिवार को आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए। वह जमशेदपुर से सांसद रह चुके हैं। पिछले दिनों झारखंड कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष पद से उन्होंने इस्तीफा दिया था। डॉ अजोय कुमार ने वर्ष 1994 से 1996 तक जमशेदपुर के पुलिस अधीक्षक के तौर पर सेवायें दी।  उन्होंने शहर की कानून व्यवस्था को बेहतर किया।


उन्हें ऐसे वक्त में जमशेदपुर का एसपी बनाया गया था जब माफिया राज से त्रस्त होकर टाटा स्टील शिफ्ट होने का प्लान कर रही थी। डा. अजोय कुमार के काम की वजह से जमशेदपुर में माफिया राज खत्म हुआ और टाटा ने पलायन का प्लान निरस्त कर दिया।  जिसके बाद वे जनता के हीरो बन गये। 


आप पार्टी में उनका स्वागत करते हुए मनीष सिसोदिया ने कहा कि एक पुलिस अधिकारी और राजनीति दोनों में डॉ अजोय कुमार का सफर बेहद शानदार रहा है। उनका उद्देश्य हर मायने में जनता की सेवा रहा है। उन्होंने पहले 1990 से 1994 तक पटना में बतौर पुलिस अधीक्षक अपनी सेवाएं दी और बहुत से सकारात्मक बदलाव लाये।


उनके जीवन में घटित होने वाली तमाम घटनाओं के आधार पर भ्रष्ट व्यवस्थाओं के बीच खड़े एक इमानदार पुलिस वाले के रोल को जाने माने फिल्मकार प्रकाश झा ने अपनी बहुचर्चित फिल्म गंगाजल में दिखाया था। 1994 के दौर में जमशेदपुर में टाटा जैसी बड़ी कंपनियाँ भी स्थानीय माफियाओं की गुंडागर्दी से त्रस्त आकर शहर छोड़ने पर विवश हो रही थी। ऐसे में डॉक्टर अजोय कुमार ने रातों रात जिम्मेदारी ली और 1994 से 1996 तक की अपनी पुलिस अधीक्षक के तौर पर सेवा के दौरान माफिया राज को पूरी तरह समाप्त किया।


अजोय कुमार का जन्म कर्नाटक के मैंग्लोर में हुआ था। उन्होंने हैदराबाद से स्कूली पढ़ाई की। 1985 में उन्होंने पुडुचेरी के जवाहरलाल इंस्टीट्यूट से एमबीबीएस की डिग्री हासिल की। 1986 में वह इंडियन पुलिस सर्विस के लिए चुने गए। वह झारखंड विकास मोर्चा (प्रजातांत्रिक) पार्टी की टिकट पर जमशेदपुर से लोकसभा का चुनाव जीतकर संसद पहुंचे। फिर कांग्रेस में शामिल हो गए।


अब डॉ अजोय कुमार ने आप का दामन थाम लिया है और दिल्ली सरकार की ओर से शिक्षा व स्वास्थ्य के क्षेत्र में लाये गए बदलाव क्रांतिकारी कहते हुए सस्ती और 24 घंटे बिजली एवं मुफ्त पानी जैसी सुविधाओं की जमकर तारीफ कर रहे हैं।


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

पश्चिमी सिंहभूम चाईबासा जिला में नये डीसी ने पद संभालते हुए कहा-जिले के सभी लोगों को सशक्त करना मेरी प्राथमिकता