स्कोप ने किया कॉर्पोरेट संचार पर शिखर सम्मलेन का आयोजन


स्कोप ने अपने परिसर में कॉर्पोरेट कम्युनिकेशन समिट 2019 का आयोजन किया। इस शिखर सम्मेलन का उद्घाटन फग्गन सिंह कुलस्ते, इस्पात राज्य मंत्री द्वारा किया गया। शिखर सम्मेलन ने पीएसयू कॉर्पोरेट संचार के अधिकारियों को "विघटन के युग में कॉर्पोरेट संचार -परिवर्तनात्मक समाधान" के ऊपर विमर्श करने का अवसर प्रदान किया।


इस अवसर पर इस्पात राज्य मंत्री ने कहा कि सार्वजनिक उद्यमों के कॉर्पोरेट संचार अधिकारियों को बदलते समय के साथ खुद को बदलने के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी। यह इस बात का विश्लेषण करता है कि प्रतिस्पर्धा के संदर्भ में हम आज कहां खड़े हैं और हमें अपनी विज़न और लक्ष्य को हासिल करने के लिए खुद को कैसे ढालना है।


उन्होंने राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों की अत्यधिक सराहना की। उन्होंने आगे जोर देकर कहा कि हमें इस बात का विश्लेषण करने की जरूरत है कि मौजूदा वैश्विक प्रतिस्पर्धी माहौल में, हम अपनी अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए इसके प्रदर्शन को और कैसे बढ़ा सकते हैं। 


इस्पात मंत्री ने आगे कहा कि देश ने अधिक से अधिक ऊंचाइयों तक पहुंचने के लिए महत्वाकांक्षी लक्ष्यों को रेखांकित किया है और इसे पूरा करने के लिए, हमें निरंतर प्रयास करने, एक साथ काम करने और आम आदमी से जुड़ने की आवश्यकता है।


मौके पर एमटीएनएल के सीएमडी और स्कोप कार्यकारी बोर्ड के सदस्य,  सुनील कुमार ने कहा कि हितधारकों के बीच हमारी छवि महत्वपूर्ण है और कॉरपोरेट संचार सही परिप्रेक्ष्य में छवि रखने का अवसर देता है। सार्वजनिक क्षेत्र बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रहा है लेकिन हम सही तरीके से प्रोजेक्ट नहीं कर पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि ग्राहक, कर्मचारी, मालिक और साझेदार महत्वपूर्ण हितधारक हैं और उचित संचार के लिए कॉर्पोरेट संचार की उचित व्यवस्था होनी चाहिए।


 अमन अग्रवाल, निदेशक, आईआईएफ,  ने अपने संबोधन में व्यवधान को गले लगाने और इसे अधिक सशक्त होने के लिए साथ रहने की सीख दी। आज सूचना की दुनिया है और सही निर्णय लेने के लिए जानकारी को कैसे संलग्न करना समय की आवश्यकता है।


 केसीसी समूह के संस्थापक अध्यक्ष डॉ शरद कोहली ने उन चार कारकों पर प्रकाश डाला, जो व्यवधान पैदा करते हैं- जो समेकित हैं, पुरानी तकनीक का उपयोग करते हैं, उपभोक्ता प्रतिक्रिया के प्रति ग्रहणशील नहीं होते और अनुसंधान में निवेश नहीं करते हैं।  इस संदर्भ में, उन्होंने विकिपीडिया, एलईडी आदि के सफल उल्लेखनीय उदाहरण दिए।


डॉ के.जी. सुरेश, एमेरिटस प्रोफेसर, एपीजे  इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन और जागरण लेकसिटी यूनिवर्सिटी, भोपाल, पूर्व डीजी, आईआईएमसी ने कहा कि व्यवधान, इंटरनेट और सोशल मीडिया के युग में, लगातार सतर्कता बरतने की जरूरत है अन्यथा कंपनी की प्रतिष्ठा धूमिल हो सकती है। । वास्तव में, यह सूचना का युग नहीं है, बल्कि यह बातचीत का युग है। इसलिए, अपने हितधारकों के साथ बातचीत और जुड़ाव की आवश्यकता है।


इंडिया टुडे ग्रुप के संपादक अजीत कुमार झा ने कहा- आज सभी व्यवधान वैश्वीकरण के कारण हैं। दो सबसे बड़ी चुनौतियां जो हमारे सामने हैं, वे हैं ऑनलाइन मीडिया एवं  श्रम बाजार में स्वचालन और हम इन पर प्रतिक्रिया कैसे देते हैं, यह महत्वपूर्ण है। उन्होंने लोगों को शिक्षित करने और डिजिटल प्लेटफॉर्म की पहुंच बढ़ाने के लिए निवेश करने की सलाह दी।


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

पश्चिमी सिंहभूम चाईबासा जिला में नये डीसी ने पद संभालते हुए कहा-जिले के सभी लोगों को सशक्त करना मेरी प्राथमिकता