कपड़ा क्षेत्र में निवेश-रोजगार अनुपात सबसे अधिक-एसोचैम


हाल ही में आर्थिक विकास को पुनर्जीवित करने के लिये वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा बुलाए गये उद्योग जगत के शीर्ष नेताओं की बैठक में एसोचैम अध्यक्ष बी के गोयनका ने कहा कि वैश्विक और घरेलू बाजार के मंदी के दौर से उबरने के लिये कुछ समय के लिये प्रभावी पैकेज की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि जब भारत का निर्यात घट रहा है, व  जून में ही निर्यात में 9 प्रतिशत से अधिक की गिरावट दर्ज की गई है, तो अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध भारत के लिए कई अवसर पैदा करता है, जिसे टैप करने की आवश्यकता है।


निर्यात के पुनरुद्धार की तत्काल आवश्यकता पर जोर देते हुए, गोयनका ने कहा कि कपड़ा और वस्त्र जैसे क्षेत्र, निरंतर समीक्षा और कर रिफंड / प्रोत्साहन योजनाओं में लगातार बदलाव के कारण नुकसान झेल रहे हैं। उन्होंने कहा कि वस्त्र / निर्मित क्षेत्र में 1 करोड़ रुपये का निवेश 72 नई नौकरियां पैदा कर सकता है। कपड़ा क्षेत्र में निवेश-रोजगार अनुपात सबसे अधिक है।
“कपड़ा उद्योग में हमारी निर्यात क्षमता को चीन में बढ़ती लागतों से और प्रोत्साहित किया जाता है और इसका लाभ वियतनाम, बांग्लादेश और मैक्सिको उठा रहे हैं। ऐसे में हमें भी एक मजबूत प्रतियोगी के रूप में उभरना चाहिए। भारत में कॉर्पोरेट करों की उच्च दर भी भारतीय व्यवसायों को अक्षम बनाती है। गोयनका ने कहा कि निजी क्षेत्र की पूंजी को पुनर्जीवित करना भी आर्थिक विकास की कुंजी है। इसके लिये नई परियोजनाओं में निवेश के रूप में वापस किए गए मुनाफे के लिए कर छूट दी जा सकती है।


हालांकि माल की श्रेणी में 28 प्रतिशत जीएसटी के तहत गिरावट आई है, लेकिन अभी भी 33 वस्तुएं हैं जो उच्चतम कर स्लैब में हैं। "यह अनुशंसा की जाती है कि इसी तरह सीमेंट, उपभोक्ता, टिकाऊ वस्तुएं, ऑटोमोबाइल सहित इस श्रेणी के तहत आने वाले अन्य सामानों की दर 18 प्रतिशत तक कम की जाए।


"एसोचैम अध्यक्ष बी के गोयनका ने कहा कि राजकोषीय बाधाओं को देखते हुए, सरकार बेकार की भूमि का मुद्रीकरण करके संसाधन जुटा सकती है। बदले में, ऐसी भूमि का उपयोग किफायती आवास और नई परियोजनाओं के लिए किया जा सकता है। इस मौके पर एसोचैम के अध्यक्ष ने एक विकास बैंक स्थापित करने की पुरजोर वकालत की जो कि जोखिम पूंजी का समर्थन करेगा। 


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

दिल्ली के लिये हरियाणा से पानी की कमी को लेकर आप नेताओं ने किया, दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के घर का घेराव।