जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में है अर्थशास्त्र की उपयोगिता


दसवीं की परीक्षा पास करते ही छात्रों के सामने एक बड़ी उलझन सामने आ जाती है, विषयों के चयन की। आखिर ऐसा कौन सा विषय लिया जाए जो सफलता के क्षेत्र में सबसे आसान सीढी का काम करे। जिसमें भविष्य बनाने के बड़े अवसर हों। अधिकतर छात्र एवं अभिभावक साइंस (विज्ञान) विषयों में सुनहरा भविष्य तलाशते हैं। डॉक्टर, इंजीनियर बनने और बनाने की तमन्ना रखते हैं।


कई बच्चे इन विषयों में फिट बैठते हैं, जबकि कईयों का इन विषयों से जुड़ाव नहीं होता। ये बच्चे आर्टस(कला) के क्षेत्र में अपना भविष्य तलाशते हैं, क्योंकि उनका आकर्षण इन्हीं विषयों में होता है।


हमारे मध्यमवर्गीय समाज में आर्ट्स के विषय को लेकर एक मिथ्या यह भी है कि जो बच्चे पढ़ने में कमजोर होते हैं, और जिनका साइंस विषय बेहतर नहीं है, वही आर्ट्स में कैरियर तलाश करते हैं, जिसमें सफलता के बहुत कम रास्ते हैं। जबकि ऐसा बिल्कुल नहीं है। यह तो विषयों से जुड़ाव की बात है।


हर विषय में भविष्य है, अगर उसे गंभीरता, सूझ-बूझ और गहराई से अपनाया गया है। इसके लिये जरूरी है कि कैरियर बनाने के लिये जिस विषय को लेने की सोच रहे हैं, उसकी हमें पूरी जानकारी हो। यहाँ हमने अर्थशास्त्र (इकॉनॉमिक्स) विषय के बारे में बताने की कोशिश की है, जिससे इस विषय को लेने वाले छात्र अच्छी तरह परिचित हो सकें। 


अर्थशास्त्र एक परिचय


मानविकी विषयों में अर्थशास्त्र एक ऐसा विषय है जिसकी उपयोगिता जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में है। अर्थशास्त्र विषय शुरू से ही लोगों के लिए एक रुचिकर विषय के रूप में जाना जाता रहा है, परंतु विगत कुछ वर्षों में एक दुरुह विषय के रूप में देखा जाने लगा जो उपयुक्त नहीं है। एक छात्र के लिए अर्थशास्त्र विषय ज्ञान और उसके कैरियर दोनों के ही दृष्टिकोण से काफी उपयोगी है। छात्र जब कैरियर की दृष्टिकोण से विषयों का चयन करता है तो वह अपने ज्ञान के साथ-साथ अपने भविष्य को भी उसके साथ जोड़कर देखता है। ऐसे में अर्थशास्त्र उसकी अपेक्षाओं को पूरा करने की क्षमता रखता है।


अर्थशास्त्र विषय लेकर न केवल ज्ञानार्जन करके एक अर्थशास्त्री के रूप में समाज में सम्मान अर्जित किया जा सकता है, बल्कि विभिन्न क्षेत्रों में एक सम्मानजनक नौकरी भी प्राप्त की जा सकती है। अर्थशास्त्र विषय से स्नातक और स्नातकोत्तर के साथ-साथ विभिन्न व्यवसायिक कोर्सों जैसे- एम.बी.ए., एम.बी.इ., बैंकिंग से संबंधित कोर्सी को किया जा सकता है।


अर्थशास्त्र में कैरियर


अर्थशास्त्र से डिग्री प्राप्त छात्र बैंकिंग एवं बीमा के क्षेत्र में, औद्योगिक इकाईयों में वित्तीय सलाहकार, प्रबंधक और विपणन अधिकारी के रूप में, निवेश सलाहकार के रूप में एक सम्मानजनक कैरियर प्राप्त कर सकते हैं।


अर्थशास्त्र से शिक्षित छात्र परम्परागत रूप में एक शिक्षक के रूप में भी अपना कैरियर बना सकता है। यही नहीं वर्तमान में अर्थशास्त्र से शिक्षित लोग की आवश्यकता शेयर बाजार में भी निरंतर पड़ती रहती है। नीति निर्माण की प्रक्रिया, आर्थिक नियोजन व्यवस्थित ढंग से संचालित करना, विभिन्न प्रकार की योजनाओं के निर्माण और उनके क्रियान्वयन में भी अर्थशास्त्र की महती भूमिका है।


विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा भी अपने आर्थिक एजेंडे को निर्धारित करने के लिए अर्थशास्त्र के लोगों की मदद ले रहे हैं।


इसलिए यह कहना गलत नहीं होगा, जहां पहले राजनीति अर्थव्यवस्था का निर्धारण करती थी तो वर्तमान में अर्थव्यवस्था राजनीति का निर्धारण करने लगी है। अतः अर्थशास्त्र की भूमिका एक छात्र के लिए अपना कैरियर बनाने के लिए काफी महत्वपूर्ण और उसको स्वर्णिम अवसर उपलब्ध कराती है।


(लेखिका निदेशक सामाजिक संस्था आँखे की निदेशक एवं अर्थव्यवस्था परिदृश्य आज और कल की उप संपादक हैं।)


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

पश्चिमी सिंहभूम चाईबासा जिला में नये डीसी ने पद संभालते हुए कहा-जिले के सभी लोगों को सशक्त करना मेरी प्राथमिकता