देश के दस शहरों में स्टार्टअप एलिवेटर पिच सीरीज शुरू कर रहा है एसोचैम


7 सितंबर 2019 से उद्योग मंडल एसोचैम देश के दस शहरों में स्टार्टअप एलिवेटर पिच सीरीज शुरू कर रहा है, जो नये उद्यमियों को उनके ड्रीम प्रोजेक्ट के लिए फंडिंग और प्रौद्योगिकी भागीदारों के लिए एक मंच प्रदान करेगा।


इस बारे में मीडिया के साथ बात करते हुए एसोचैम नेशनल काउंसिल के अध्यक्ष अनिल खेतान, सह अध्यक्ष आशीष अग्रवाल एवं तृप्ति एस. सिंहल ने कहा कि "इस अनूठी पहल के माध्यम से स्टार्टअप एवं संभावित स्टार्टअप वाले व्यक्ति, अपने क्षेत्र के शीर्ष पेशेवरों के साथ नेटवर्क बनाने और खुद के लिए व्यापार या धन के अवसर पैदा करने में सक्षम होंगे,"।


अनिल खेतान ने कहा कि यह अवसर शुरुआती चरण के स्टार्टअप के लिए 0-2 साल के परिचालन के लिए उपलब्ध होगा। बड़े पैमाने पर बढ़ने के इच्छुक लोगों को वित्त या प्रौद्योगिकी बढ़ाने के लिये उद्यमियों, पूंजीपतियों, या दुनियां के स्वतंत्र पेशेवरों के साथ मार्केटिंग साझेदारी का अवसर मिलेगा।


एलीवेटर प्रोग्राम, 2-5 वर्षों के बीच स्थापित स्टार्टअप के लिए भी है। एसोचैम स्टार्टअप लिफ्ट पिच सीरीज 7 सितंबर से जनवरी 2020 के बीच 12 शहरों में शुरू की जाएगी। यह शहर जयपुर, पुणे, लखनऊ, चंडीगढ़, रायपुर, इंदौर, गुवाहाटी, कोच्चि, विशाखापत्तनम, नई दिल्ली, जम्मू और श्रीनगर हैं।


“दिल्ली को छोड़कर अन्य शहरों की सूची से यह साफ है कि  अन्य सभी रोल आउट कार्यक्रमों के लिए टियर- II या III शहर हैं। एसोचैम नेशनल काउंसिल के अध्यक्ष अनिल खेतान ने कहा- हमारा मानना ​​है कि छोटे शहर प्रचुर प्रतिभा के साथ समान रूप से आकांक्षी हैं। इसके अलावा,  टेक्नोलॉजी की सुविधा के साथ, नए युग के उद्योगों को पूरे भारत में पहुंचना चाहिए। ''एलीवेटर पिच का प्रारूप ऐसा होगा कि ज्यूरी सदस्यों के सामने किसी सेवा या उत्पाद के बारे में समझाने के लिए उद्यमियों और संस्थापकों को 300 सेकंड का समय दिया जाएगा।


इस प्रोजेक्ट के लिये एसोचैम एक वेबसाइट बनाएगा जिस पर योजना से संबंधित सभी जानकारी अपलोड की जाएगी। आवेदन ऑनलाइन मांगे जाएंगे और नियमित रूप से स्थानों, ज्यूरी सदस्यों के विवरण अपडेट किए जाएंगे।एसोचैम का मानना ​​है कि भारत का आर्थिक भविष्य स्टार्टअप को प्रोत्साहित करने में निहित है जिससे भारतीय अर्थव्यवस्था में गति आएगी और नई सोच रोजगार पैदा करेगा। 


Popular posts from this blog

झारखंड हमेशा से वीरों और शहीदों की भूमि रही है- हेमंत सोरेन, मुख्यमंत्री झारखंड

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।