एसजेवीएन  और नीपको ने किए भारत एवं विदेश में संयुक्‍त रूप से विद्युत परियोजनाओं को खोजने के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर 


नई दिल्‍ली: 27 जून,2019


सीपीएसई कॉन्‍कलेव 2018 में, भारत के माननीय प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने न्‍यू इंडिया 2022 के विज़न को रेखांकित किया है ।  इस विज़न को प्राप्‍त करने के लिए उन्‍होंने एक महत्‍वपूर्ण पैरामीटर के रूप में अधिकतम भू-सामरिक पहुंच पर जोर दिया I  तदनुसार, एसजेवीएन लिमिटेड ने नीपको के साथ समझौता ज्ञापन में प्रवेश किया है I  समझौता ज्ञापन पर एसजेवीएन के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक,  नन्‍द लाल शर्मा तथा नीपको के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, श्री ए.जी.वेस्‍ट खरकोंगोर ने नई दिल्‍ली में हस्‍ताक्षर किए I


समझौता ज्ञापन एक लचीला तंत्र उपलब्‍ध कराता है जिसके तहत दोनों पक्ष भारत के उत्‍तर-पूर्व तथा पूर्वी राज्‍यों में तात्‍कालिक फोकस के साथ भारत एवं विदेश में विद्युत परियोजनाओं के विकास के लिए मिलकर कार्य और सहयोग करेंगे I दोनों पक्षों ने संयुक्‍त उपक्रमों (जेवी), विशेष उद्देश्‍य इकाईयों (एसपीवी) तथा संकाय के रूप में एक गठबंधन में कार्य करने पर भी सहमति  व्‍यक्‍त की है I   इन इकाईयों में प्रत्‍येक पक्ष के पास न्‍यूनतम 26% स्‍वामित्‍व होगा I


यह समझौता ज्ञापन आज से प्रभावी हो गया है और न्‍यूनतम पांच वर्षों की अवधि के लिए वैध है, जिसे आपसी सहमति से आगे बढ़ाया जा सकता है Iएसजेवीएन के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नन्‍द लाल शर्मा ने कहा कि यह एसजेवीएन को 2023 तक 5000 मेगावाट कंपनी,2030 तक 12000 मेगावाट कंपनी तथा 2040 तक 25000 मेगावाट कंपनी बनाने की दिशा में एक कदम है I



Popular posts from this blog

झारखंड हमेशा से वीरों और शहीदों की भूमि रही है- हेमंत सोरेन, मुख्यमंत्री झारखंड

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।