टीबी के मरीजों की सही समय पर है पहचान जरूरी


24 मार्च 1882 को जर्मन वैज्ञानिक राबर्ट कोच ने टीबी के जीवाणु खोजने के दावा किया था। इस  खोज के 110 वर्षों के बाद विश्व स्वास्थ संगठन ने टीबी के भयावहता को समझते हुए 24 मार्च को विश्व स्तर पर विश्व टीबी(तपेदिक) दिवस मनाने की घोषणा की। तबसे लेकर निरंतर प्रति वर्ष टीबी को पराजित करने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। विश्व स्वास्थ संगठन ने अपने शोध के आधार पर यह अनुमान लगाया है कि दुनिया का एक तिहाई आबादी मायको बैक्ट्रियम ट्यूबरक्लोसिस बैसिलि नामक जीवाणु  से संक्रमित है। हवा के जरिए एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलने वाला ट्यूबरक्लोसिस बैसिलि (टीबी), दुनिया के सर्वाधिक 10 खतरनाक जानलेवा बीमारियों में से एक है। टीबी का जीवाणु खासकर कुपोषित, कमजोरों को सबसे पहले अपने चपेट में लेता है। विश्व स्वास्थ संगठन के रिपोर्ट के मुताबिक टीबी से प्रतिदिन 4658 लोगों की मौत दुनिया भर में हो जाती है। विकासशील देशों में टीबी संक्रमण से मरने वाले लोगों की संख्या 95 प्रतिशत है। जबकि भारत में प्रति 3 मिनट में 2 व्यक्ति की मौत इस जानलेवा क्षय रोग से हो जाती है।



इस लिहाज से भारत में मौत का यह आंकड़ा 1400 व्यक्ति प्रतिदिन का बैठता है। यह आंकड़ा सीरिया या इराक जैसे युद्ध में मरने वाले लोगों के तुलना में काफी अधिक है।  एक रिपोर्ट के अनुसार, पिछले 2 सालों में पूरे विश्व में लगभग 104 लाख नए टीबी के मरीज जुड़ें। भारत में यह आंकड़ा 27.9 लाख है जो विश्व के टीबी मरीजों के 24 फीसद के करीब है। भारत में टीबी के करीब 10 प्रतिशत मामले बच्चों में पाए गए हैं लेकिन इसका दुःखद पहलु यह है कि इसमें से केवल 6 प्रतिशत मामले ही अस्पताल तक पहुंच पाते हैं। टीबी के मरीजों की सही समय पर पहचान नहीं होने से स्थिति खतरनाक होती जा रही है और उनसे लड़ने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। विभिन्न कारकों के कारण समय पर रोग की पहचान न होना, दवा का संपूर्ण कोर्स नहीं कर पाना आदि के कारण टीबी का जीवाणु दिनों-दिन मजबूत होकर दवाओं की प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर लेता है।


टीबी के जीवाणु का मल्टी ड्रग रेसिस्टेंट टीबी (एमडीआर टीबी) स्वरूप अख्तियार करना संपूर्ण विश्व के विशेषज्ञों के लिए लगातार कठिन चुनौति बन कर उभर रहा है।  इंडियन सोसायटी फॉर क्लिनिकल रिसर्च (ISCR) के मुताबिक एमडीआर टीबी मामलों में सफलतापूर्वक इलाज की दर 50 फीसदी से भी कम है। टीबी को वश में करने के लिए भारत सरकार ने भी पहल करते हुए नेशनल स्ट्रेटिजिक प्लान 2017-25 बना रखा है। टीबी के इलाज में सही समय पर दवा की प्रचुर खुराक एवं पोषण दिया जाए तो टीबी के मरीजों की संख्या में कमी आती है। इसलिए टीबी को लेकर लोगों में बनी भ्रांतियों को जागरूकता फैलाकर दूर करने की आवश्यकता है।


इसके बावजूद इस बीमारी पर जल्द ही नकेल कसने की आवश्यकता है। यह बीमारी महामारी का रूप अख्तियार कर पूरे मानव जीवन के अस्तित्व को ही संकट में डाल सकता है संयुक्त राष्ट्र संघ ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल (एसडीजी) के तहत 2030 तक टीबी को काबू करने का लक्ष्य लिया है।     


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

दिल्ली के लिये हरियाणा से पानी की कमी को लेकर आप नेताओं ने किया, दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के घर का घेराव।