बिहार उत्सव में बिहार की जूट और नक्काशी की कला युवाओं को कर रही आकर्षित

दिल्ली के आईएनए दिल्ली हाट में 15 दिवसिय बिहार उत्सव 2019 में बिहार की जूट के बने घरेलू सामानों और नक्काशी की कला युवाओं को खास आकर्षित कर रही है। यही कारण है कि युवक और युवतियां बिहार उत्सव में जमकर खरीदारी कर रहे हैं। बिहार के 107वां स्थापना दिवस के अवसर पर दिल्ली में बिहार उत्सव 2019 का यह कार्यक्रम बिहार की संस्कृति, परंपरा, कला पर्यटन को दर्शाता है। हर स्टाल पर कुछ न कुछ ऐसा है जो आपको अपनी ओर आकर्षित जरूर करेगा। इस बार स्टाल के भागलपूरी सिल्क, मधुबनी पेंटिंग, सिकी के उत्पाद, कास्ट की मूर्ति, जूट के बने सामान आदि आकर्षक स्टाल्स लगाये गए हैं।


इस अवसर पर हेंडीक्राफ्ट एंड हैंडलूम के 110 स्टाल लगाये गए हैं इसके अलावा बिहारी व्यंजन के भी 4 स्टाल यहाँ लगाये गए है। खाने के शौकीन लोग बिहार की रसोई नाम से मशहूर स्टॉल पर जाकर बिहार में बनने वाले घरेलू सामानों को खरीद सकते हैं। यहां से विभिन्न प्रकार के सत्तू, चिप्स, चावल आटा आदि खरीद सकते हैं।


बिहार उत्सव 2019 के दौरान हस्तकरधा एवं हस्तशिल्प के उत्कृष्ट सामानों की बिक्री एवं सह-प्रदर्षनी का आयोजन31 मार्च 2019 तक होगा। कार्यक्रम को खास बनाने के लिए विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति 22 से 25मार्च तक की जाएगी।


 


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

पश्चिमी सिंहभूम चाईबासा जिला में नये डीसी ने पद संभालते हुए कहा-जिले के सभी लोगों को सशक्त करना मेरी प्राथमिकता