क्या आहार और व्यायाम के संयोजन से हो सकता है वजन कम.?


हां, आप अकेले आहार के साथ वजन कम कर सकते हैं लेकिन व्यायाम एक महत्वपूर्ण घटक है।


दरअसल वजन कम करने के लिये जिस नियम का पालन करना जरूरी है, उसमें आम तौर पर 70 प्रतिशत आहार और 30 प्रतिशत व्यायाम होता है। डायटीशियन डॉ. दिव्या कहती हैं- वजन कम करने की कोशिश करते समय स्वस्थ भोजन और व्यायाम का संयोजन सबसे अच्छा होता है।


प्रति सप्ताह एक किलोग्राम कम करने के लिए, आपको अपने सप्ताह से सप्ताह में 3,500 की एक तालिका के लिए 500 कैलोरी को खत्म करना होगा।


इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप आहार, व्यायाम या दोनों के संयोजन से ऐसा करते हैं।


healthy food


आहार पर होने से आपका वजन कम हो सकता है, लेकिन व्यायाम के बिना हम अपनी मांसपेशियों और हड्डी के घनत्व खो देते हैं।  हड्डी और मांसपेशियों के घनत्व की कमी  बुढ़ापा है।


शारिरिक क्रियाकलाप है जरूरी


मानव शरीर निरंतर गतिविधि के लिए डिज़ाइन किया गया है। कम से कम सप्ताह में 4 दिन 50 मिनट का व्यायाम अपने शरीर को अच्छी स्थिति में रखने के लिये और सही आकार देने के लिये हम कर सकते हैं।


शरीर एक बुनियादी सिद्धांत पर काम करता है या तो इसे प्रयोग करें या इसे गंवा दें। हम जल्द ही हमारी मांसपेशियों और हड्डी के घनत्व  खो सकते हैं, क्योंकि हम व्यायाम नहीं करते हैं।


अक्सर जब लोग व्यायाम करना शुरू करते हैं तो  दिमाग में एक मिथक होता है कि जो भी खाना चाहते हैं, खा सकते हैं जबकि यह बहुत गलत है।



 सिर्फ यह सोचना कि मैं अपने शरीर का नियमित रूप से उपयोग करता हूं इसका यह अर्थ नहीं है कि मुझे इसका दुरुपयोग करना चाहिए। तो व्यायाम बेहतर जीवन शैली को अपनाने का एक हिस्सा है, लेकिन यह सही भोजन करने का विकल्प नहीं है।


आवश्यक है स्वस्थ भोजन और नियमित व्यायाम


जब आप स्वस्थ भोजन करना शुरू करते हैं और नियमित रूप से व्यायाम करते हैं, तो आपको शुरू में आपके शरीर में वसा की बूंद दिखाई देगी, लेकिन आपके वजन में ज्यादा कमी नहीं दिखेगी।


हालांकि,  जब एक दुबला व्यक्ति अपना आहार कम करता है तो वह बहुत अधिक वजन खो देता है, मगर  जब एक मोटा व्यक्ति ऐसा करता है तो कई बार वजन एक समान रहता है या फिर कभी-कभी वास्तव में बढ़ जाता है।


फैट शरीर पर बहुत मात्रा में रहता है पर बहुत कम वजन करता है। मांसपेशी घनी होती है, इसलिए यह बहुत कम स्थान पर रहती है, लेकिन बहुत अधिक वजनी होती है। यही कारण है कि लोगों को अक्सर अपने “भोजन” के बाद झपकी आती है।


 


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

दिल्ली के लिये हरियाणा से पानी की कमी को लेकर आप नेताओं ने किया, दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के घर का घेराव।