खुंटपाणी प्रखंड अंतर्गत खाद आपूर्ति गोडाउन और सीएचसी अस्पताल का किया गया निरीक्षण, दौरे मे खुंटपानी प्रखंड अध्यक्ष एवं सांसद प्रतिनिधि रहे शामिल।

 


चिन्मय दत्ता,

 सिंहभूम सांसद गीता कोड़ा के निर्देश पर सांसद प्रतिनिधि स्वास्थ्य एवं खाद्य  आपूर्ति विभाग लखन बीरूवा सांसद प्रतिनिधि सह जिला प्रवक्ता जितेंद्र नाथ ओझा एवं खूंटपानी प्रखंड अध्यक्ष मोहन सिंह हेंब्रोम ने खूंटपानी प्रखंड परिसर स्थित खाद्य आपूर्ति गोडाउन जाकर खाद्यान्न आपूर्ति एवं वितरण संबंधी  वस्तु स्थिति की वहां उपस्थित गोदाम प्रभारी अशोक निषाद से जानकारी ली। गोदाम की स्थिति काफी जर्जर अवस्था में है, छत से पानी रिसने के कारण अनाज से भरी बोरियां बर्बाद हो रही हैं। 

जगह-जगह चटकी दीवार से चूहा घुसकर बोरियां काट रहा है। कमजोर दीवार कभी भी गिर सकती है । सांसद प्रतिनिधयों को यह भी पता चला कि 8000 क्विंटल अनाज आवंटन होता है उससे आधी से भी कम अर्थात ढाई हजार क्विंटल अनाज रखने की ही व्यवस्था गोडाउन में है।

ब्लॉक में चावल के साथ गेहूं का भी आवंटन पिछले 2 महीने से शुरुआत की गई है उसे रखने की भी व्यवस्था उपलब्ध नहीं है।  दौरे के क्रम में खूंटपानी प्रखंड के बासाहातु सीएचसी अस्पताल जाकर भी वहां की वस्तुस्थिति की जानकारी दी गई प्रभारी डॉक्टर ज्ञासुद्दीन ने जानकारी दी कि बहुत जल्द यहां ऑक्सीजन प्लांट की शुरुआत हो रही है साथ ही पूरे अस्पताल में नेत्र जांच, कोविड-19 जांच, मलेरिया जांच ,सांप के काटने पर वैक्सीन, तथा आंगनबाड़ी केंद्रों में गर्भवती महिलाओं के लिए जांच जैसे कार्यक्रम किए जा रहे हैं। 

पंचायत में एक एनम के भरोसे ही कार्य चल रहा है, वहां वांछित एक एनम की प्रतिनियुक्ति आवश्यक है अस्पताल में 7 डॉक्टर की नियुक्ति के स्थान पर 3 डॉक्टर की ही नियुक्ति हुई है साथ ही कंप्यूटर ऑपरेटर सहित अन्य साफ सफाई कर्मचारी की आवश्यकता है।

 दौरे में यह भी जानकारी मिली कि अस्पताल बहुत ही अच्छे ढंग से मरीजों का इलाज करने में सफल रहा है और स्वास्थ्य कर्मी पूरे मनोयोग से मरीजों का देखभाल करते हैं वैक्सीनेशन कार्य भी पूरे जोर शोर से चल रहा है, पूरे प्रखंड में कोविड-19 की अब तक 14000 लोगों की जांच की जा चुकी है।

 

Popular posts from this blog

झारखंड हमेशा से वीरों और शहीदों की भूमि रही है- हेमंत सोरेन, मुख्यमंत्री झारखंड

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।