हम 'सत्ता से पैसा' और 'पैसे से सत्ता' के लिए नहीं आए हैं : केजरीवाल


नई दिल्ली। “हम लोग बाकी पार्टियों की तरह नहीं हैं। ऐसा नहीं है कि हम चुनाव लड़कर सत्ता में आ जाएं। इसके बाद सत्ता में आकर पैसा बना लें। फिर पैसे से दोबारा सत्ता पर काबिज हो जाएं। ये हमारा मकसद नहीं है।“ जींद उप-चुनाव के बाद आम आदमी पार्टी को समर्थन देने हरियाणा से आए विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने बात कही। हरियाणा से आए विभिन्न संगठनों ने 4 फरवरी, सोमवार को अरविंद केजरीवाल से मुलाकात करके उन्हें अपना समर्थन दिया।  


आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक ने ये भी कहा कि आप सभी जानते हैं कि मोदी जी ने हमारी सरकार के कामकाज में बहुत अड़चनें डाली। हमारे पर रेड डलवाईं। हमारी पावर छीन ली। इसके बावजूद हमने इतना काम करके दिखा दिया, जो बाकी सरकारें नहीं कर पाईं। इससे एक बात तो साफ है कि काम हो सकते हैं। बस, ये पार्टियां करती नहीं हैं। ये पार्टियां करना चाहती ही नहीं हैं।  


केजरीवाल ने कहा कि हम सबको मिलकर चुनाव लड़ना है ताकि जो फायदा दिल्ली के लोगों को हुआ वो हरियाणा के लोगों को भी हो। दिल्ली के लोगों ने हमें 70 में से 67 सीटें दी थी। हमने दिल्ली की जनता के विश्वास को बनाये रखा। हरियाणा में सरकार बनने पर दिल्ली से दोगुना-तिगुना काम हो सकता है क्योंकि हरियाणा पूर्ण राज्य है। 


पानीपत शहर के समाजसेवी राम निवास गुलिया ने कहा कि मैंने सुना है कि दिल्ली में अगर ओबीसी के मेधावी बच्चों को आईएएस, पीसीएस, मेडिकल, इंजीनियरिंग, बैंकिंग, रेलवे इत्यादि परीक्षाओं की तैयारी के लिए नामी-गिरामी कोचिंग संस्थानों में एडमिशन लेना हो, तो केजरीवाल सरकार उसकी पूरी फीस देती है। सबको पता है कि अच्छे कोचिंग संस्थानों की फीस लाख रुपये से भी ज्यादा होती है। इस स्कीम से दिल्ली में ओबीसी के बहुत सारे मेधावी बच्चों को फायदा हो रहा है। इन्हीं सब योजनाओं से प्रभावित होकर हम लोग आम आदमी पार्टी से जुड़ रहे हैं। हम लोग हरियाणा में आम आदमी पार्टी की सरकार बनाने का संकल्प लेकर इस मिशन से जुड़े हैं। 


 


पानीपत शहरी सीट से विधानसभा का चुनाव लड़ चुके जगदीश कहते हैं कि हरियाणा में अब तक सभी पार्टियों ने अन्य पिछड़ा वर्ग का वोट हासिल किया है लेकिन उनके लिए कुछ भी नहीं किया है। अरविंद केजरीवाल जो काम कर रहे हैं उससे सभी का भला हो रहा है। अच्छे स्कूलों-अस्पतालों, सस्ती बिजली, किसानों को मुआवजा, शहीदों के परिवारों को 1 करोड़ रुपये की सम्मान राशि जैसी कल्याणकारी योजनाओं से हर वर्ग को फायदा मिल रहा है। हम ऐसी ही राजनीति की कल्पना करते थे, जो दिल्ली में केजरीवाल ने सच करके दिखाया है। इसलिए हम लोग आम आदमी पार्टी की सदस्यता ले रहे हैं।


 


Popular posts from this blog

समय की मांग है कि जड़ से जुड़कर रहा जाय- भुमिहार महिला समाज।

जन वितरण के सामान को बाजार में बेचे जाने के विरोध में ग्रामीणों ने की राशन डीलर की शिकायत।

पश्चिमी सिंहभूम चाईबासा जिला में नये डीसी ने पद संभालते हुए कहा-जिले के सभी लोगों को सशक्त करना मेरी प्राथमिकता